Header Ads

65 और 71 की लड़ाई में भी निशाने पर रहा पठानकोट

65-और-71-की-लड़ाई-में-भी-निशाना-पर-रहा-पठानकोट

पंजाब का पठानकोट पाकिस्तान सीमा के करीब है। यह क्षेत्र हमेशा से ही संवेदनशील रहा है।

1965 की लड़ाई हो या 1971 का युद्ध दोनों बार यहां हमले किये गये। दोनों बार भारत ने पाकिस्तानी हमलावरों को नाको चने चबा दिये।

पाकिस्तानी सेना ने 1965 की लड़ाई के समय पठानकोट एयरबेस पर हमला किया था। साथ ही उन्होंने आदमपुर और हलवारा एयरबेस को भी निशाना बनाया था। उस दौरान एक मेस बर्बाद हो गयी थी बाकी ऑफिसर्स मेस को किसी तरह की कोई क्षति नहीं पहुंची थी।

साथ में पढ़ें : 65 और 71 की लड़ाई में भी निशाना पर रहा पठानकोट

एयरबेस पर खड़े जहाजों को नुकसान नहीं हुआ था। हमारे सैनिकों ने भागते हमलावरों को पकड़ा था। उनके कुछ साथी जान बचाकर भाग गये थे।

1971 की लड़ाई में पठानकोट एयरबेस पर हमला किया था। वह पिछले हमले से अलग था क्योंकि इस बार रॉकेट और बमों से सीधा हमला हुआ था। उस दौरान एयरबेस में रनवे का एक हिस्सा हताहत हो गया था।

पठानकोट भारत और पाकिस्तान की सीमा पर है। इसलिए यहां भारतीय फौज चौकन्नी अधिक रहती है।

हाल के आतंकी हमले में निशाना एयरबेस था मगर उसे नाकाम कर दिया गया। सभी पांच हमलावरों को मार गिराया गया। भारत ने इस दौरान अपने छह जांबाज खो दिये। उससे अगले दिन जांच के दौरान हुए धमाके में एक कर्नल की मौत हो गयी।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम.

गजरौला टाइम्स के ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें.

Mail us at : gajraulatimes@gmail.com

गजरौला टाइम्स की ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए अपना इ-मेल दर्ज करें :

Delivered by FeedBurner