Header Ads

आटा मिल मालिक बिचौलियों के जरिये खरीद रहे गेहूं

मिलों में शहरों से दूर बसे गांवों के किसानों से नकद दाम देकर सस्ते में गेहूं लाया जा रहा है.

यहां दो बड़े आटा मिल हैं जबकि कई जगह आटा चक्कियां मालिक भी लघु आटा मीलों की तर्ज पर आटे का व्यवसाय कर रहे हैं। ये सभी लोग मंडी-कर की चोरी कर अवैध रुप से बिचौलियों के द्वारा सस्ते मूल्य पर गेहूं खरीद रहे हैं। एक आटा मिल तो खेल मंत्री चेतन चौहान की फैक्ट्री से सटा है।

आटा मिल मालिक बिचौलियों के जरिये खरीद रहे गेहूं
जरुर पढ़ें : क्यों घटा गेहूं बोने का रकबा? 

इन मिलों में शहरों से दूर बसे गांवों के किसानों से नकद दाम देकर सस्ते में गेहूं लाया जा रहा है। मंडी से गेहूं लेने के मुकाबले यह सस्ता उपलब्ध हो रहा है। मंडी सचिव तथा निरीक्षकों की मिलीभगत से यह सब हो रहा है।

संबंधित अधिकारियों की कार्यप्रणाली की जांच एसडीएम या डीएम को स्वयं करनी चाहिए।

साथ में पढ़ें : गेहूं का रकबा बढ़ने का सरकारी दावा खोखला निकला

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...

गजरौला टाइम्स की ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए अपना इ-मेल दर्ज करें :

Delivered by FeedBurner