Header Ads

जेलों में बिलखते भाजपाईयों को भूल गये उनके नेता

kanth moradabad riot

मुरादाबाद के कांठ प्रकरण में जेल में बंद अमरोहा भाजपा जिला अध्यक्ष समेत कई नेताओं के जेलों में बिलबिलाने के वावजूद भाजपा की केन्द्रीय कार्यकारिणी के मौन धारण करने से मुरादाबाद मंडल समेत तमाम उत्तर प्रदेश के भाजपा कार्यकर्ताओं में घोर निराशा का माहौल है। इस मामले में अमरोहा जनपद के अधिकांश नेता अपनी-अपनी मांद में घुस गये हैं। सांसद कंवर सिंह तंवर ने तो चुनाव में भी भाजपा से कोई यहां नाता नहीं रखा। अतः अब वे यहां के भाजपा कार्यकर्ताओं को दर्शन देने का भी समय नहीं निकाल पा रहे। उनका मीडिया प्रभारी कहता है कि यहां के लोगों ने तंवर साहब को तो वोट दिया नहीं, मोदी को दिया है। अब दिल्ली जाकर उन्हीं से मिलें। हमारे पास क्या लेने आते हैं?
  गजरौला नगर मंडल प्रभारी सुरेन्द्र सिंह औलख का कहना है कि सारे नेता और कार्यकर्ता आंदोलन से कन्नी काट रहे हैं। उनका कहना है कि बन्द हो गये तो काम खराब हो जायेगा। कोई नेता आगे आने को तैयार नहीं।
  गजरौला के चेयरमैन हरपाल सिंह ने जिला स्तरीय बैठक अपने आवास पर बुलाई। वहां गिने-चुने लोग आये और वे भी बिना किसी फैसले के इधर-उधर हो लिये। जिलाध्यक्ष तक की जमानत नहीं हो रही।
  औलख का कहना है कि राष्ट्रीय नेतृत्व का कहना है कि यह प्रकरण प्रदेश स्तर का है। कार्यकर्ता संघर्ष करें तो हम तभी कुछ कर सकते हैं। जबकि पहले ही बन्द नेताओं और कार्यकर्ताओं पर संगीन धाराओं में केस थोप दिये गये हैं। राज्य के नेता और कार्यकर्ता बेहद हताश हैं। यदि केन्द्रीय नेतृत्व का यही रवैया रहा तो राज्य स्तरीय इकाइयों में विरोध के स्वर मुखर होने शुरु हो जायेंगे। जिसका खामियाजा राज्य में आगामी उपचुनावों में भाजपा को भुगतना पड़ेगा।

-टाइम्स न्यूज गजरौला

गजरौला के अन्य समाचार पढ़ें