Header Ads

नगर पंचायत की बैठक में ठेकेदारी पर सभासद आमने-सामने


harpal singh chairman gajraula
हरपाल सिंह, नगर पंचायत अध्यक्ष गजरौला.
नगर पंचायत की बैठक में जहां कुछ सभासदों में तीखी नोंकझोंक हुई वहीं गरमा-गरम बहस के बीच सभासदों को शांत करने में इ.ओ. कामिल पाशा की सांसें फूल गयीं और अध्यक्ष हरपाल सिंह को बार-बार हस्तक्षेप करना पड़ा। इस हंगामखेज बैठक में लाखों के प्रस्ताव पारित हो गये वहीं बोर्ड ने संविदा सफाई कर्मियों को शासनादेश के तहत निर्धारित न्यूनतम वेतनमान चार हजार से बढ़ाकर 14 हजार करने का प्रस्ताव पारित कर बड़ा तोहफा दिया। इससे यहां तैनात 40 कर्मचारियों को लाभ पहुंचा है।

नगर पंचायत अध्यक्ष हरपाल सिंह की अध्यक्षता में नगर पंचायत सभागार में हुई। बैठक शुरु होते ही नगर में निर्माण कार्यों के लिए भराव के उपयोग को मिट्टी लाने में बाधा बने खनन विभाग के अधिकारियों के खिलाफ निन्दा प्रस्ताव रखा गया जिसे ध्वनि मत से पारित कर दिया गया। इसी बीच नामित सभासद जिताम्बर यादव ने कुछ स्थानों विशेषकर चैपला में गुरुद्वारा के निकट वाले इलाके में हुए निर्माण में अधोमानक का मुद्दा उठाया। साथ ही कहा कि निर्माण कार्यों में घटिया सामग्री का कारण कुछ सभासदों का ठेकेदारी करना और उसमें शामिल होना है। इससे बैठक में हंगामा हो गया तथा एक सभासद के पति देशवीर सिंह चाहल और जिताम्बर यादव में तीखी नोंक-झोंक और विवाद ने उग्र रुप ले लिया। लिहाजा इ.ओ. को बीच में आना पड़ा। उनकी सांस तक पफूल गयी। चेयरमेन हरपाल सिंह भी बीच बचाव में उतरे। किसी तरह मामला शांत हुआ।

सभासद अशोक कुमार दिले ने भी निर्माण कार्यों में कमीशनखोरी बंद करने पर जोर दिया और गुणवत्ता बनाये रखने को कहा। उन्होंने सड़कों के निर्माण में घटिया सामग्री का आरोप लगाया। कई सभासदों ने एमडीए कालोनी से गुरुद्वारे तक के नाले की सफाई की मांग भी की।

जरुर पढ़ें : महिला सभासद नहीं पहुंचतीं बैठकों में

बैठक में चालीस कर्मियों को शासनादेश के हवाले से 14,000 रुपये न्यूनतम पे ग्रेड स्वीकृति का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। अभी तक इन्हें मात्र चार हजार रुपये मासिक दिया जा रहा था। नगर पंचायत के मध्य में होकर गुजर रहे बदायूं-बिजनौर प्रदेश हाइवे पर निर्माणाधीन ओवर ब्रिज के निर्माण में बाधा बने वृक्षों को काटने का अनापत्ति प्रमाण पत्र देने का प्रस्ताव भी बोर्ड ने बैठक में आम सहमति से पारित कर दिया। कृषि क्षेत्र और आदिवासी क्षेत्र न होने के कारण नगर पंचायत क्षेत्र परिधि अंतर्गत होने तथा ब्रिज निर्माण में बाधा बने इन वृक्षों के कटान पर नगर पंचायत को कोई आपत्ति न होना बताया गया। पंचायत क्षेत्र की भूमि को कब्जा मुक्त बनाये रखने को वहां बोर्ड लगाये जाने का प्रस्ताव भी पारित किया गया।

वार्ड नंबर दो के सभासद अमरीक सिंह ने अपने मोहल्ले में पेयजल संकट की दिक्कत की समस्या रखी तो इ.ओ. कामिल पाशा ने बहानेबाजी शुरु कर दी। जिस पर सभासद ने कहा कि एक दिन मेरे मोहल्ले में गुजार कर देखो तो हालात का पता चल जायेगा। इ.ओ. और सभासद में बढ़ते विवाद को चेयरमेन हरपाल सिंह ने हस्तक्षेप कर निपटाया और कहा कि इ.ओ. जल्दी ही जेनरेटर की व्यवस्था कर पेयजल व्यवस्था सुचारु करायेंगे।

बैठक में आशुतोष भूषण शर्मा, अनिल कुमार अग्रवाल, हरीश चन्द्र, जिताम्बर यादव, स. हरजीत सिंह, देशवीर सिंह चाहल, ऋषिपाल सिंह, हरिओम सैनी, जाफर मलिक, बृजेश कुमार आदि मौजूद थे।

टाइम्स न्यूज गजरौला

गजरौला के अन्य समाचार पढ़ें.