Header Ads

जिला पंचायत 2015 : पायल पहली महिला उम्मीदवार

payal chaudhary

जिला पंचायत चुनाव के उम्मीदवारों के नाम धीरे-धीरे प्रकाश में आ रहे हैं। अभी तक जितने भी नाम सामने आये थे वे सभी पुरुर्षों के थे। हाल ही में एक महिला भी वार्ड दस से उम्मीदवारी के लिए चुनावी संघर्ष का इरादा कर चुकी हैं। इस वार्ड से अभी तक दो पुरुष उम्मीदवार मैदान में हैं। सपा नेता आलोक कुमार को भी उनके कई समर्थक जिला पंचायत में जानना चाहते हैं लेकिन अभी उनकी कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी। वार्ड नौ से कई उम्मीदवार चुनावी बाजी की तैयारी में हैं।

सबसे अधिक उम्मीदवार वार्ड नं. 11 में हैं। जहां बसपा से चौ. वीरेन्द्र सिंह, सपा से चौ. कामेन्द्र सिंह तथा रालोद से निरंजन सिंह मैदान में हैं। तीन-चार अन्य उम्मीदवार भी यहां की चर्चा कर रहे हैं लेकिन वे उपरोक्त तीन सिंहों के मैदान में आने से शिथिल पड़ गये हैं तथा दूसरे वार्डों में अपनी मजबूती का आकलन करने में जुट गये हैं।

पायल चौधरी नामक 23 वर्षीय एक पढ़ी-लिखी महिला भी यहां चुनावी दंगल में शामिल हो गयी हैं। वे महिला सशक्तिकरण के नाम पर मैदान में हैं.

वार्ड दस में चौ. भूपेन्द्र सिंह मजबूत पकड़ के साथ मैदान में उतर चुके हैं। वे सपा के उम्मीदवार हैं। यहीं से विपिन चौधरी भी किस्मत आजमाना चाहते हैं। अभी तक यहां कोई तीसरा नाम सामने नहीं आया था लेकिन पायल चौधरी नामक 23 वर्षीय एक पढ़ी-लिखी महिला भी यहां चुनावी दंगल में शामिल हो गयी हैं। वे महिला सशक्तिकरण के नाम पर मैदान में हैं।

उनका कहना है कि महिला अधिकारों की जागरुकता के लिए वे पहल करेंगी। वे पुरुष प्रधान समाज द्वारा महिलाओं के साथ किये जाने वाले भेदभाव से अच्छी तरह परिचित हैं। वे क्षेत्रीय विकास के लिए काम करेंगी।

पायल चौधरी के मैदान में आने से एक महिला की उपस्थिति भी जिला पंचायत उम्मीदवारों में दर्ज हो गयी है। यह समय बतायेगा कि पायल को महिलायें कितना समर्थन देंगी, जिनके हकों के लिए वे संघर्ष की तैयारी कर चुकी हैं।

खादर में कड़े संघर्ष की भूमिका

जिला पंचायत के वार्ड नौ से कई नवयुवक पहली बार चुनावी दंगल में किस्मत आजमाना चाहते हैं। जबकि मौजूदा जिला पंचायत सदस्य सतीश चन्द अभी खामोश हैं। खादर क्षेत्र के इस वार्ड में कई चर्चित व्यक्तित्व भी टकराने वाले हैं। देखा जाये तो यह वार्ड इस चुनाव का काफी रोमांचक रणक्षेत्र बनेगा। एक छात्र नेता भी यहां किस्मत आजमायेगा। दो पुराने प्रतिद्वंदी उमर फारुख सैफी तथा ओमकार सिंह एक बार फिर मैदान में आ सकते हैं। यह चर्चा पूरे वार्ड में है।

इसी के साथ क्षेत्र विकास समिति और ग्राम प्रधान चुनाव के लिए भी लोग जमीन सूंघ रहे हैं। त्रिस्तरीय चुनावी माहौल गरमाने लगा है।

-टाइम्स न्यूज़ अमरोहा/गजरौला.

जिला पंचायत चुनाव 2015 से जुड़े समाचार :

जिला पंचायत चुनाव : सबसे अधिक उम्मीदवार वार्ड 11 में
जाफर मलिक भी वार्ड 11 से लड़ेंगे जिला पंचायत चुनाव
जिला पंचायत और ब्लॉक प्रमुख चुनाव में सपा बसपा में टक्कर
जिला पंचायत चुनावों से दूसरी राजनीतिक पारी शुरु करेंगे नागपाल