Header Ads

'सरकार को पंचायत बोर्ड भंग करने का हक’ -राहुल

rahul-kaushik-gajraula

सरकार को पूरा हक है कि वह नगर पंचायत बोर्ड को भंग कर पालिका बोर्ड के गठन तक वैकल्पिक व्यवस्था के तहत यहां प्रशासक नियुक्त कर दे। यह कहना है सपा के वरिष्ठ नेता राहुल कौशिक का। वैसे उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने पालिका परिषद के गठन के लिए दिये प्रार्थना पत्र या अन्य कार्रवाई में कहीं भी नगर पंचायत बोर्ड को भंग करने की मांग नहीं की। उन्होंने यह भी जोड़ा कि वे चाहते भी हैं कि जनता द्वारा पांच वर्ष की अवधि के लिए चयनित बोर्ड को पंचवर्षीय कार्यकाल पूरा करने दिया जाये। लखनऊ से लौटकर अपने अवंतिका आवास पर कौशिक पत्रकारों से बात कर रहे थे।

सपा नेता ने कहा कि सपा राज्य में विकास के लिए तेजी से काम कर रही है। विद्युत समस्या पर पूछे सवाल पर कौशिक का उत्तर था कि मांग अधिक होने तथा उत्पादन की कमी होने से दिक्कत है जिसे एक-डेढ़ साल में सुधार लिया जायेगा। राहुल कौशिक ने कहा कि गजरौला की विद्युत समस्या के समाधान में यहां का पालिका बनना भी सहायक सिद्ध होगा।

नगर पंचायत को उच्चीकृत कर पालिका परिषद कराने में लगे समय और दिक्कतों का उन्होंने सिलसिलेवार उल्लेख करते हुए मौजूदा नगर पंचायत बोर्ड के चेयरमेन और सदस्यों की भूमिका पर सवाल खड़ा किया।

उन्होंने बताया कि इन सभी लोगों ने पालिका न बनने देने के लिए आपत्ति दर आपत्ति लगाकर पूरी कोशिश की लेकिन वे आपत्तियों को निरस्त कराने में सफल हुए, हालांकि उन्हें इसके लिए जहां कीमती समय खर्च करना पड़ा और लखनऊ के चक्कर लगाने पड़े। ऐसे में अच्छे काम के लिए किया गया उनका प्रयास सफल हुआ। कौशिक ने इसके लिए गजरौला की जनता के सहयोग की प्रशंसा भी की।

जरुर पढ़ें : राहुल का आभार, हरपाल पर प्रहार


उदीयमान सपा नेता ने कहा कि नवगठित पालिका परिषद को मूर्त रुप प्रदान करने के लिए बुनियादी ढांचे की तैयारी शुरु हो जायेगी। कई अधिकारी और उनके सहायक भी यहां सक्रिय हो जायेंगे। भले ही नगर पंचायत बोर्ड अस्तित्व में रहे लेकिन कार्यालय का सिस्टम पूरी तरह पालिका परिषद की तरह काम करने लगेगा। अब 18 वार्डों से 25 वार्ड हो जायेंगे। जिनके परिसीमन को जल्दी ही अंतिम रुप दिया जायेगा।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.

गजरौला टाइम्स के ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें.