Header Ads

लगातार तीसरी बार लड़ते ही हार गये जाफर

zafar-malik-image-gajraula

पिछड़ा वर्ग के स्वयंभू नेता जाफर मलिक तीसरी बार भी चुनावी मैदान में उतरते ही हार गये। वे जिला पंचायत के लगातार तीन चुनावों में मजबूत तैयारियों के बावजूद मैदान से बाहर होने को बाध्य हुए हैं। पहली बार 2005 के चुनाव में वे वार्ड 9 से चुनावी तैयारी कर चुके थे लेकिन उसी दौरान वार्ड एस.सी. आरक्षित हो गया। वे चुनाव नहीं लड़ सके।

2010 में फिर से वे तैयारी करने लगे लेकिन प्रतिद्वंदी उमर फारुख की मजबूत हालत को समझ कर मैदान छोड़ना पड़ा। इस बार नये परिसीमन में तीसरी बार उन्होंने वार्ड 11 से तैयारी शुरु की। प्रचार और सभायें शुरु कीं तो फिर वार्ड एस.सी. में आने की खबर ने उन्हें बुखार चढ़ा दिया।

बेचारे जाफर फिर लड़ाई शुरु होने से पहले ही मैदान से बाहर हो गये।

जिला पंचायत चुनाव 2015 से जुड़ी सभी ख़बरें पढ़ें >>

—टाइम्स न्यूज़ गजरौला.

गजरौला टाइम्स के ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें.