Header Ads

एकता का संदेश भी है सामूहिक गंगा स्नान में

एकता-का-संदेश-है-सामूहिक-गंगा-स्नान-में

कार्तिक पूर्णिमा पर प्रतिवर्ष तिगरी में भारत की पवित्र गंगा नदी के तट पर लाखों श्रद्धालु शताब्दियों से जिस श्रद्धा और हर्षोल्लास से एकत्र होकर कई रोज तक स्नान करने को तंबुओं को नगर के रुप में बसेरा करते आ रहे हैं। यह हमारी संस्कृति का एक अनूठा प्रमाण है।

इस महापर्व का आयोजन और प्रबंधन प्रतिवर्ष जिला पंचायत करता है, लेकिन जिसमें जिले के प्रशासनिक मशीनरी के कंधों पर इसकी सारी व्यवस्था का भार आ जाता है। पुलिस यहां की सुरक्षा व्यवस्था का दायित्व वहन करती है जिसमें वह दूसरी फोर्सेस का सहारा भी लेती है। इस विशाल मेले की परिवहन व्यवस्था तक पर पहले ही आयोजकों को जबरदस्त माथापच्ची करनी पड़ती है। सभी पहलुओं के बाद मेला शांतिपूर्ण संपन्न हो पाता है। इतने विशाल आयोजन में फिर भी कुछ न कुछ त्रुटियां होना स्वाभाविक हैं जिसका दोषारोपण बाद में आयोजकों तथा मेला प्रशासन के सिर मंढा जाता है।

गंगा-मेला-तिगरी-पर-ख़ास-खबरें

हम सब गंगा में एक साथ इसीलिए तो स्नान करने आते हैं कि हम सब एक हैं। यह स्नान हमारे अंदर एकता की भावना मजबूत करे।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.

गजरौला-टाइम्स-फेसबुक-पेज