Header Ads

चीन का भरोसा भारत के भरोसे से खरा नहीं

china-and-nepal-relation-against-india

भारत से नेपाल के रिश्ते सुधरने में समय लग सकता है। शायद ऐसा भी हो कि मौजूदा सरकारें अभी थोड़ा सोच-विचार करें और उसके बाद बात को आगे बढ़ाया जा सके।

वैसे भारत हर बार कहता रहा है कि नाकेबंदी का कारण वह नहीं है। उसके लिए नेपाल के अंदर जो हालात बेकाबू हैं वे इसके जिम्मेदार हैं।

पिछले कई महीनों से नेपाल में स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। वहां आये जबरदस्त भूकंप के बाद स्थिति बेहद खराब हो गयी। आंकड़े बता रहे हैं कि दस हजार से अधिक लोग उस दौरान मारे गये थे। लाखों इमारतें तबाह हो गयी थीं। वहां का होटल व्यवसाय तो पूरी तरह चौपट हो गया। साथ ही पयर्टन के लिए आने वाले सैलानियों में बेतहाशा कमी आयी। पयर्टन वहां बहुत बड़ा उद्योग है। उसका योगदन नेपाल की अर्थव्यवस्था में अहम है।

नेपाल में संविधान संशोधन की वजह से मधेसियों और सरकार में टकराव की स्थिति बनी। फिर तो जैसे हालात असमान्य होते गये। प्रदर्शनों के दौरान कई लोग मारे गये।

भारत से लाये जा रहे सामान को भी रोका जाने लगा। धीरे-धीरे दोनों देशों के बीच सदियों का तालमेल बिखरने की कगार पर पहुंच गया। अब भी स्थिति पूरी तरह सामान्य नहीं कही जा सकती।

चीन मौके की नजाकत को पहचान गया और उसने नेपाल की ओर हाथ बढ़ाया। हालांकि पहले भी नेपाल चीन जैसे देशों से काफी आयात करता रहा है, लेकिन इस बार उसने चीन का हाथ कुछ ज्यादा ही कसकर पकड़ा।

इसके बाद चीन से सटी नेपाली सीमा को फिर खोल दिया गया। यह भारत के लिए चिंता का विषय है, चाहें भारत इसे बाहरी तौर पर न माने।

नेपाल के उपप्रधानमंत्री तथा विदेश मंत्री कमल थापा ने चीन के विदेश मंत्री वांग यी से मुलाकात पेइचिंग में की। तेल के लिए नेपाल ने चीन से मदद मांगी है जिसका भरोसा उन्हें दिया गया है। भारत से वहां तेल नहीं पहुंच पा रहा।

नेपाल को जानना होगा कि चीन का भरोसा भारत के भरोसे से खरा नहीं हो सकता।

कमल थापा ने एक अहम बात कही कि उनके लिए भारत और चीन एक समान हैं। दोनों से उन्हें पूरे सहयोग की आशा है।

जबकि मौजूदा हालात कुछ ओर बयान कर रहे हैं।

धीरे-धीरे रिश्ते नर्म हो सकते हैं। इसलिए भारत और नेपाल को इस मसले पर विस्तार से बात करनी चाहिए। वरना यह नेपाल और भारत दोनों के लिए फायदे का सौदा नहीं होगा।

-हरमिन्दर सिंह चाहल.

गजरौला टाइम्स के ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें.