Header Ads

मुश्किल हो तो जेठमलानी हैं न !

ram-jethmalani-the-lawyer-for-the-case-on-arvind-kejriwal-by-arun-jaitely

राम जेठमलानी वरिष्ठ वकील हैं और ऐसे केस उन्होंने लड़े हैं जिन्हें हम 'हाइ-प्रोफाइल’ कहते हैं। उनकी उम्र 92 साल की हो चुकी है। वे मूल रुप से पाकिस्तान के सिंध प्राप्त में जन्मे हैं। 17 साल की उम्र में उन्हें वकालत की डिग्री मिल गयी थी। उन्हें देश का सबसे महंगा वकील भी कहा जाता है। वो अलग बात है कि वे कहते हैं कि सिर्फ कुछ केस ही वे फीस लेकर लड़ते हैं, अधिकतर केस वे बिना पैसे के लड़ते हैं।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पर मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है। जेठमलानी अब केजरीवाल की पैरवी करेंगे।

जेठमलानी भाजपा के पूर्व नेता हैं। उन्हें भाजपा ने बिहार से राज्यसभा के लिए चुना था। बाद में उनके तीखे बोलों के कारण उन्हें भाजपा से बाहर कर दिया गया। उन्होंने बिहार विधानसभा के बीते चुनावों के दौरान पीएम नरेन्द्र मोदी पर हमला बोला था। कहा था कि वे उन्हें हारते हुए देखना चाहते हैं। वो अलग बात है कि उनका कहा पूरा हो गया। मोदी की पार्टी बिहार में धराशायी हो गयी थी।

असाराम मामले में जेठमलानी की आलोचना हुयी थी। वे आसाराम की ओर से वकील थे। आसाराम पर बलात्कार के आरोप लगे हैं। अब भाजपा के नेता सुब्रमण्यम स्वामी उनका केस लड़ रहे हैं।

1959 में उन्हें पहचान मिली थी जब केएम नानावटी बनाम महाराष्ट्र सरकार का केस उन्होंने लड़ा था।

शेयर बाजार में हलचल पैदा करने वाले हर्षद मेहता का केस भी उन्होंने लड़ा। उसी तरह दूसरे घोटालेबाज केतन पारेख के बचाव में भी जेठमलानी ही उतरे।

इंदिरा गांधाी की हत्या में शामिल केहर सिंह और सतवंत सिंह की भी उन्होंने पैरवी की। वहीं राजीव गांधी की हत्या में दोषी मुरुगन का केस उन्होंने लड़ा।

ब्लॉग पढ़ें : बेचारी गाय को तो पता ही नहीं

जब हवाला हुआ तो उसकी आंच में वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी भी घिरे थे। उनकी पैरवी करने वाले भी राम जेठमलानी ही थे। जसिका लाल हत्याकांड में शामिल मनु शर्मा के वे वकील थे।

अंडरवर्ल्ड के जानेमाने नाम हाजी मस्तान के लिए वे अदालत पहुंचे थे। भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह का नाम जब सोहराबुद्दीन फर्जी मुठभेढ़ में आया तो जेठमलानी उनके लिए केस लड़े।

2जी घोटाले में उन्होंने डीएमके की कनिमोझी की पैरवी की है। साथ ही जयललिता पर जब आय से अधिक संपत्ति का मामला बना तो वहां भी जेठमलानी खड़े थे। साथ ही वे अवैध खनन मामले में कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस यदुरप्पा का केस भी लड़ चुके हैं।

हालांकि अब उनकी उम्र 90 के पार पहुंच गयी है, मगर वे उतने ही सक्रिय नजर आ रहे हैं।

उनके बारे में एक बात कही जाती है कि मुश्किल हो तो जेठमलानी हैं न।

-गजरौला टाइम्स ब्लॉग.

गजरौला टाइम्स के ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें.