Header Ads

प्रशासन बना हुआ है पूरी तरह लापरवाह

गजरौला-नगर-पालिका-की-लापरवाही-कुत्तों-को-लेकर

पालिका प्रशासन ने आवरा कुत्तों पर कभी प्रतिबंध के लिए पहल नहीं की। न ही इस मसले पर कोई ठोस रणनीति बनायी गयी कि कुत्तों की जनसंख्या को किस तरह नियंत्रित किया जाये।

यहां के निवासी महीपाल सिंह ने कहा कि चेयरमेन या अन्य कर्मचारी कुत्तों के हमलों को गंभीरता से नहीं लेते। उन्होंने कभी भी नसबंदी या अन्य तरीके की बात नहीं की। यदि कोई व्यक्ति शिकायत लेकर गया भी है तो उलटे उसे ही मजाक का पात्र बना दिया गया।

वहीं रमेश शर्मा का मानना है कि स्थनीय प्रशासन की लापरवाही के कारण ही लोगों को तड़के या शाम में खतरा उत्पन्न हो रहा है।

सम्बंधित ख़बरें :
गजरौला में आवारा कुत्ते और समस्यायें
आवारा कुत्तों की संख्या बढ़ती जा रही है

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.

गजरौला टाइम्स के ताज़ा अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें.