Header Ads

क्या आमिर खान की 'पीके’ को आइएसआइ ने प्रमोट किया था?

क्या आमिर खान की 'पीके’ को आइएसआइ ने प्रमोट किया था?

लगता है भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यन स्वामी को पार्टी ने एक एजेंडे के तहत अपनी बात बेबाकी से कहने के लिए काम पर लगा दिया है। ऐसी चर्चा उनके विपक्षी दलों के कई नेता कर रहे हैं और वे मौके-मौके पर आकर स्वामी के बारे में यह बात कहते भी रहते हैं।

स्वामी ने राम-मंदिर के मुद्दे को फिर से चर्चा में ला दिया था। उसके बाद भारत की राजनीति गरमायी थी। बाद में प्रवीण तोगड़िया के कार्यक्रम से पहले हुई हिंसा ने भी इस मुद्दे को हवा दी थी।

स्वामी ने फिर से एक नया बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि आमिर खान की फिल्म 'पीके' के प्रमोशन के लिए खान ने पाकिस्तान की आइएसआइ से सांठगांठ की थी। यह आरोप अपने में बहुत गंभीर है। इसपर आमिर खान अभी चुप्पी साधे बैठे हैं, लेकिन राजनीतिक तौर पर स्वामी का बयान फिर से चर्चा को गरमाने का काम करेगा।

सवाल उठाये जा रहे हैं कि क्या स्वामी की बात में दम है? क्या आमिर खान की पीके को आइएसआइ ने प्रमोट किया था?

आमिर खान ने असहिष्णुता वाले बयान पर माफ़ी मांगी थी

आमिर खान को अतुल्य भारत कार्यक्रम से सरकार ने हटा दिया था। तब कहा गया था कि उन्होंने जो कुछ समय पहले असहिष्णुता पर बयान दिया था उसकी वजह से उन्हें हटाया गया है।

उन्होंने एक कार्यक्रम में अपनी पत्नि किरण राव का जिक्र करते हुए कहा था कि उनकी पत्नि को लगता है कि उन्हें देश छोड़कर दूसरी जगह बसना चाहिए। फिर क्या था कथित राष्ट्रभक्त कहीं से निकल आये और आमिर खान को देशद्रोही कहना शुरु कर दिया था। उनका जमकर विरोध हुआ। आमिर खान के पोस्टर फाड़ दिये गये थे।

बाद में आमिर खान ने माफी मांग कर मामले को शांत कर दिया था।

फिर से आमिर खान पर सुब्रमण्यन स्वामी का ताजा बयान राजनीति को गरमाने का काम कर सकता है।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम के लिए एम.एस. चाहल.