Header Ads

रीडिंग से कई गुना अधिक बिल भेजे जा रहे हैं, एसडीओ सुनवाई करने को तैयार नहीं

 रीडिंग से कई गुना अधिक बिल भेजे जा रहे हैं,  एसडीओ सुनवाई करने को तैयार नहीं

गजरौला में विद्युत मीटर रीडिंग में व्याप्त धांधली लगातार बढ़ रही है। एसडीओ तथा अधिशासी अभियंता उपभोक्ताओं के बार-बार शिकायतें करने पर भी आश्वासन देकर खानापूर्ति कर देते हैं। बिलों में गड़बड़ी के चलते जब बिल बेतहाशा बढ़ता जाता है और विभागीय अधिकारी और बाबू कोई ध्यान नहीं देते तो एसडीओ कार्यालय में तैनात बाबुओं से ले देकर यह मामला सुलझाया जाता है। उपभोक्ता फंस जाता है। वह जमा नहीं करता तो उसपर पेनल्टी दर पेनल्टी डालने के साथ कनैक्शन काटने की धमकियां दी जाती हैं। ऐसे में वह अधिक बिल जमा करने को मजबूर है।

एसडीओ एसपी सिंह sdo gajraula sp singh
एसडीओ एसपी सिंह से लिखित शिकायत करने के बावजूद एक उपभोक्ता का बिजली बिल हर बार 115 यूनिट भेजा जा रहा है। जबकि दो किलोवाट के इस कनेक्शन स्वामी का मीटर हर बार तीस से चालीस यूनिट बता रहा होता है। लगभग तीन गुना ज्यादा बिल आने पर शिकायत छह माह से उपभोक्ता एसडीओ से कर रहा है। एक बार वह लिखित प्रार्थना पत्र भी दे चुका लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा। किसी न किसी बहाने उसे टरकाया जा रहा है। इससे उपभोक्ताओं में बेहद रोष व्याप्त है।

इस तरह के कई मामले एसडीओ कार्यालय में प्रतिदिन आते हैं। लोग जरुरी काम धंधे छोड़कर जब कई बार आने पर भी बिल ठीक कराने में असमर्थ रहते हैं तो मजबूरन अनापशनाप आये बिल को जमा करने को बाध्य होते हैं। कई उपभोक्ताओं का कहना है कि एसडीओ ऑफिस का बड़ा बाबू ले-देकर बिल ठीक कर देता है।

एसडीओ से इस बाबत पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उनका रिकॉर्ड तो बिल्कुल साफ है। उनके कार्यालय में ऐसा कुछ नहीं होता।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम गजरौला.