Header Ads

फर्जी प्रमाण पत्र से नौकरी करते पांच शिक्षकों की सेवा समाप्त, वेतन की रिकवरी के आदेश

मिड डे मील नहीं बंटा तो हेडमास्टर हुआ निलंबित

अमरोहा में फिर से फर्जी प्रमाण पत्र पर नौकरी करते पाये गये पांच शिक्षक निलंबित किये गये हैं। उनकी सेवा समाप्त कर दी गयी है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी गिरवर सिंह ने सत्यापन के बाद उनपर कार्रवाई की है। अभी तक उन्हें जो वेतन प्राप्त हुआ था उसकी रिकवरी के भी आदेश दिये गये हैं।

पिछले दिनों फर्जी प्रमाण पत्र के एक मामले में चार शिक्षकों की सेवा समाप्त की गयी थी। उनके कागजों की जांच की गयी थी जिसमें शैक्षिक प्रमाण पत्र फर्जी पाये गये थे।

जिन शिक्षकों ने मध्यमा और उत्तमा की परीक्षा संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय बनारस से पास की है उनका सत्यापन कराया जा रहा है। यह आदेश हाइकोर्ट की तरफ से आया है। जिन पांच शिक्षकों के प्रमाण पत्र फर्जी पाये गये हैं, वे हैं : 1) मनोज कुमार (सहायक अध्यापक, प्राथमिक विद्यालय कैलबकरी ब्लॉक अमरोहा), 2) रियाजुल हसन (सहायक अध्यापक, प्राथमिक विद्यालय सिबौरा जोया ब्लॉक), 3) अमित कुमार (सहायक अध्यापक, प्राथमिक विद्यालय खंडसाल कलां धनौरा ब्लॉक), 4) उमेश कुमार (सहायक अध्यापक, उच्च प्राथमिक विद्यालय बागड़पुर कलां अमरोहा ब्लॉक) और 5) मुनाजिर हसन (सहायक अध्यापक, प्राथमिक विद्यालय नौरान अमरोहा ब्लॉक)। इन शिक्षकों ने फर्जी प्रमाण पत्र की मदद से नौकरी की। इनसे वेतन की अभी तक की राशि और मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिये गये हैं।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम अमरोहा.