Header Ads

बीस हजार करोड़ की निर्मल गंगा योजना से संवरेगी गंगा नदी

बीस हजार करोड़ की गंगा निर्मल योजना से संवरेगी गंगा नदी

यदि केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती की घोषणा पर यकीन किया जाये तो एक माह में गढ़मुक्तेश्वर से ब्रजघाट तक गंगा नदी एक सुरम्य पर्यटक स्थल की कहानी दोहराने की तैयारी में नजर आयेगी।

उमा भारती ने नव वर्ष दो जनवरी को नमामि गंगे योजना का शुभारंभ ब्रजघाट से करने का संकल्प लिया। गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए बीस हजार करोड़ की योजना में गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र में गंगा का निर्मलीकरण, अविरल बहाव तथा तटीय सौन्दर्य भी शामिल है।

इसी के साथ पौराणिक धरोहरों को पर्यटन स्थलों के रुप में विकसित भी किया जाना है इस सिलसिले की शुरुआत उमाभारती ब्रजघाट और गढ़मुक्तेश्वर से करने जा रही हैं। उन्होंने यहां एक पौधा लगाकर योजना शुरु करने का संकेत दिया।

brajghat ganga river

सौ गांवों को बनायेंगे आदर्श गांव

उमा भारती ने बताया कि वैसे तो गंगा तटवर्ती सोलह सौ गांवों में भी इसी योजना के तहत विकास कार्य कराये जायेंगे लेकिन इनमें से एक सौ गांवों का बिजली, शुद्ध पेयजल, चिकित्सा, शिक्षा और स्वास्थ्य संबंधी सभी सुविधायें मुहैया की मंशा केन्द्र सरकार की है।

uma bharti at brajghat

संबंधित विभागों को बेहतर तालमेल की नसीहत

नमामि गंगा योजना को जमीनी हकीकत बनाने के लिए केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस में संबंधित विभागों के अधिकारियों की बैठक ली और उनसे योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए विभिन्न पहलुओं पर बात की।

तय पाया गया कि सभी संबंधित विभागों के अधिकारी आपस में बेहतर तालमेल बनाकर काम करेंगे।

सबसे पहले गंगा तटवर्ती सभी शहरों और गांवों के प्रदूषित जल को गंगा में गिरने से रोकने पर का होगा।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम ब्रजघाट.