उत्तर कोरिया के धरती हिलाने वाले हाइड्रोजन बम परीक्षण में छिपा है संदेश

उत्तर कोरिया के धरती हिलाने वाले हाइड्रोजन बम परीक्षण में छिपा है संदेश


उत्तर कोरिया ने जिस तरह हाइड्रोजन बम परीक्षण किया है उससे लगता है कि वह दुनिया को अपनी ताकत दिखाना चाहता है। उसमें यह संदेश भी कहीं न कहीं छिपा हुआ है कि आप हम पर प्रतिबंध लगाते रहो, हम उनका मुकाबला करने में सक्षम हैं।

उत्तरी कोरिया के शासक किम जांग उन ने अपने जन्म दिन से दो दिन पहले हाईड्रोजन बम के परीक्षण का आदेश जारी किया।


अमेरिका ने तो इसे एक भड़काने वाली कार्रवाई बताया है। उसने उसपर इस कार्रवाई का जबाव देने की बात कही है।

उत्तर कोरिया का यह हाइड्रोजन बम परीक्षण धरती को भूकंप का झटका भी दे गया।

उत्तर कोरिया में रिक्टर स्केल पर 5.1 तीव्रता के झटके महसूस किये गये थे। वहीं दक्षिण कोरिया ने उन्हें उससे थोड़ा कम बताया था।

सरकारी टेलीविजन चैनल पर की पुष्टि

उत्तर कोरिया के सरकारी टेलीविजन चैनल ने सुबह हाइड्रोजन बम परीक्षण की पुष्टि कर दी थी। परीक्षण सफलतापूर्वक हुआ है।

विशेषज्ञ इसे परमाणु परीक्षण से खतरनाक मान कर चल रहे हैं। उनका मानना है कि हाइड्रोजन बम की शक्ति परमाणु बम से कई गुना अधिक होती है।

उत्तर कोरिया के इस कदम की दुनिया के कई देशों ने निंदा की है। फ्रांस ने इस परीक्षण को इसे संयुक्तराष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव का अस्वीकार्य उल्लंघन बताया है।

सबसे पहले अमेरिका ने हाइड्रोजन बम परीक्षण किया था।

उसके बाद रुस, चीन और फ्रांस ने ऐसा किया है।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम.

No comments