Header Ads

मुलायम जी सस्पेंसबाजी बहुत हुई, उन तीन भाजपा नेताओं के नाम अब बता भी दीजिये

मुलायम-सस्पेंसबाजी-बहुत-हुई-उन-तीन-भाजपा-नेताओं-के-नाम

समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव अलग तरह की राजनीति कर रहे हैं। यह हटकर नहीं, बहुत हटकर है। कई को लगता है कि मुलायम सिंह यादव 'राजनीतिक सस्पेंसबाजी’ कर रहे हैं।

दादरी कांड को बीते कई महीने हो गये। मगर मुलायम सिंह यादव उस कांड को बीतने नहीं दे रहे। वे उसकी यादें ताजा रखना चाहते हैं।

मुलायम सिहं यादव आयेदिन अखलाक का जिक्र छेड़ देते हैं। वे कई बार कह चुके हैं कि दादरी कांड में भारतीय जनता पार्टी के तीन नेता शामिल थे। लेकिन उन्होंने एक बार भी किसी अवसर पर उनका नाम नहीं बताया। वजह क्या है कि वे उन तीन भाजपा नेताओं का नाम बताना नहीं चाहते या वे ऐसा जानबूझकर कर रहे हैं?

..इसलिए यूपी, बिहार और बंगाल से नहीं कोई स्मार्ट शहर?


मैं समझता हूं कि मुलायम सिंह को अब सस्पेंसबाजी खत्म कर देनी चाहिए और उन तीनों का नाम बता देना चाहिए क्योंकि भाजपा नहीं, बल्कि एक आम भारतीय नागरिक होने के नाते मैं भी जानना चाहता हूं।

भाजपा के प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक खुद बेचैन मालूम पड़ते हैं। साथ में वे मुलायम सिंह यादव का नाम लिया बगैर कहते हैं कि यदि उन्हें मालूम हैं तो उनके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करें।

पाठक यह भी कहते हैं कि कानूनी किताब में तो अपराधी का नाम छिपाना अपराध होता है।

कांग्रेस चुटकी ले रही है, बसपा शांती से मुलायम सिंह को देख रही है और जनता बार-बार पूछ रही है कि मुलायम जी कब बताओगे उन तीनों के नाम।

कांग्रेस के एक नेता नाम न बताना जनता के साथ धोखा बता रहे हैं।

मुलायम सिंह यादव सस्पेंस को चरम तक ले जाने की सोच रहे हैं। बाद में ऐसा न हो कि वे बताना चाहें तो भी न बता पायें, इसलिए उन्हें देर नहीं करनी चाहिए, उत्तर प्रदेश का हर बाशिंदा जानना चाहता है कि वे तीन कौन हैं?

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम के लिए हरमिन्दर सिंह.