2012 में पत्नि और बेटी के सामने सूरजभान को मार डाला था, अब मिला इंसाफ

पत्नि-और-बेटी-के-सामने-सूरजभान-को-मार-डाला-था-अब-मिला-इंसाफ

सुनीता तब अपने पति को न बचा सकी, लेकिन अदालत ने अब उसे इंसाफ मिला है। उसके पति के हत्यारे सलाखों के पीछे पहले से ही थे, अब उन्हें उम्रकैद हो गयी है।

अमरोहा में विशेष सत्र एवं एससी-एसटी अपर जिला जज बीडी भारती ने एक अहम फैसला सुनाया। उन्होंने हसनपुर के सैमली गांव के नर्सरी मालिक सूरजभान की हत्या करने वाले सगे भाइयों समेत तीन दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनायी। उनपर 80 हजार रुपये का जुर्माना भी किया गया है।

10 नवंबर 2012 को रात के समय नर्सरी पर सूरजभान की हत्या कर दी गयी थी। शिव किशोर, अशोक और नरेश ने तबल के वार से सूरजभान को मार दिया था। उसकी पत्नि ने उसे बचाने की कोशिश की तो उसे धक्का देकर दूर गिरा दिया था। उसकी बेटी भी वहीं थी।

शिव किशोर और अशोक को शक था कि उनके मां और भाई की हत्या में सूरजभान भी शामिल था। इसलिए उन्होंने बदला लेने की सोची और उसकी हत्या कर दी।

न्यायाधीश बीडी भारती ने तीनों को दोषी करार दिया और उन्हें सजा सुना दी।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम अमरोहा.

No comments