Header Ads

स्कूल की बच्ची के लिए ही रोज आती है वह ट्रेन

स्कूल-की-बच्ची-के-लिए-ही-रोज-आती-है-वह-ट्रेन

यह सुनकर अचरज होता है कि एक सवारी ले जाने और फिर लाने के लिए ट्रेन आती है। जापान के होइकादो द्वीप के कामी शिराताकी गांव के स्टेशन से एक बच्ची स्कूल के लिए रोज उस ट्रेन में बैठती है और फिर वही ट्रेन वापस उसे स्टेशन तक छोड़ती है।

सबसे मजेदार बात यह है कि सिर्फ उस बच्ची को लेने के लिए ही ट्रेन गांव तक आती है।

गांव का स्टेशन सरकार ने बंद कर दिया था। सरकार की ओर से कहा गया था कि वहां सवारियां नहीं हैं।

दसवीं के बाद नहीं चलेगी ट्रेन

बाद में जब अधिकारियों को पता चला कि गांव की एक बच्ची को स्कूल जाने के लिए उसके अलावा कोई दूसरा साधन नहीं है, तो उन्होंने स्टेशन को चालू करने का फैसला किया।

फिर क्या था, ट्रेन सुबह बच्ची को स्कूल ले जाती है और शाम को छोड़ने आती है। यहां तक की ट्रेन का समय भी बच्ची के स्कूल के समय के हिसाब से व्यवस्थित किया गया है।

कहा जा रहा है कि जब छात्रा दसवीं पास कर लेगी तो ट्रेन चलनी बंद हो जायेगी।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम.