Header Ads

जबरिया नामांकन खारिज करने के खिलाफ बैठक : सरकारी अधिकारियों को सपा के एजेंट बताया

hem-singh-arya-hasanpur

ब्लॉक प्रमुखी चुनाव में सुमन आर्य के नामांकन को जबरिया खारिज किये जाने का मामला तूल पकड़ रहा है। इस सिलसिले में बसपा के पूर्व जिलाध्यक्ष हेम सिंह आर्य ने अपने आवास पर बीडीसी सदस्यों की बैठक में बोलते हुए कहा कि पर्चा खारिज करने के प्रकरण को वे निर्वाचन आयोग तथा शासन के अधिकारियों के समक्ष ले जायेंगे। यदि उन्हें न्याय नहीं मिला तो अदालत का दरवाजा खटखटायेंगे।

हेम सिंह आर्य ने कहा कि शुक्रवार में प्रपंच रचा गया जिसके तहत सुमन आर्या का वैध नामांकन, अवैध करार देकर उन्हें ब्लाक प्रमुख चुनाव लड़ने से वंचित किया गया। उन्होंने कहा कि सभी बीडीसी सदस्य इस अन्याय से संघर्ष को तैयार हो जायें।

बसपा मंडल को-ऑर्डीनेटर चन्द्रपाल सैनी ने कहा कि कुल 106 बीडीसी सदस्यों में से 74 सदस्य उनके साथ थे और आज भी हैं। ऐसे में सुमन अर्या भारी बहुमत से विजयी हो रही थीं। उनका नामांकन पत्र ठीक था तथा सभी जरुरी कागजात उसमें संलग्न थे। क्रम संख्या आदि सभी कुछ ठीक था। सपा के एजेंटों की तरह काम कर रहे वहां मौजूद अधिकारियों ने जबरन पर्चा रद्द कर दिया।

ब्लॉक प्रमुख चुनाव हसनपुर : 'सुमन आर्य के नामांकन के कागज ही गायब कर दिये'


सुमन आर्य ने जबरिया पर्चा रद्द करने वालों को जमकर लताड़ा और उचित समय उचित जबाव देने की चेतावनी भी दी।

इस मौके पर विधानसभा क्षेत्र प्रभारी गंगासरन खड़गवंशी, कैलाश चन्द, विवेक कुमार, जगदीश सिंह, ऋषिपाल सिंह, महेन्द्र सिंह, पूरननाथ, अभय, परम सिंह चौहान, प्रदीप कुमार, ब्रह्मपाल सिंह, पीतमसेन, फिरासत, नबाव, संजय सैनी, तेजपाल खागी, संजय सैनी, सुन्दर, गुड्डी, रुप सिंह, आशा, रुपवती, वीरवती, सोनू, सोमपाल, ज्ञानचन्द, निकहत परवीन आदि बीडीसी सदस्य मौजूद थे।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम हसनपुर.