Header Ads

जाट आरक्षण आंदोलन : जाट नेताओं ने मायावती की सराहना की

virender-bhupender-soran-jat-neta

बसपा से जुड़े युवा जाट चेहरों ने हरियाणा के साथ ही देश के दूसरे स्थानों पर भड़के जाट आरक्षण आंदोलन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसके लिए भाजपा की वादाखिलाफी को उत्तरदायी ठहराया है।

पूर्व जिला पंचायत सदस्य वीरेन्द्र सिंह, जिला पंचायत सदस्य भूपेन्द्र सिंह, तथा डा. सोरन सिंह का कहना है कि बसपा प्रमुख बहन मायावती ने जाट आरक्षण को जायज ठहराकर यह साबित किया है कि बसपा में ही जाटों के हित सुरक्षित हैं। भाजपा ने सत्ता के लिए झूठ बोलकर जाटों के वोट हासिल किये और सत्तासीन होते ही उनका आरक्षण समाप्त करा दिया।

उन्होंने कहा कि जाट इस अहसानफरामोशी को कभी नहीं भूलने वाले। तीनों बसपा नेताओं ने संयुक्त बयान में कहा कि हरियाणा के जाट अपना हक मांगने को मजबूरी में सड़कों पर उतरे। पूरा जाट समाज उनके साथ है तथा बसपा प्रमुख के बयान से स्पष्ट हो चुका है कि पूरी पार्टी जाटों के साथ खड़ी है।

जाट आरक्षण आन्दोलन हरियाणा से जुड़ी हर हलचल यहां क्लिक कर पढ़ें >>


तीनों नेताओं ने केन्द्र सरकार को सचेत किया है कि सेना के बल पर जाट आंदोलन को कुचलने का प्रयास न करे। उन्होंने चेतावनी दी है कि यह कदम बहुत ही घातक होगा जिसकी भरपाई मुश्किल होगी। जाटों की मांगें जायज हैं, जिन्हें वे शांतिपूर्ण ढंग से डेढ़ वर्ष से मांग रहे हैं। उन्हें पूरा करने में समय गंवाना समझदारी नहीं होगी। यह केन्द्र पर निर्भर है कि वह कौनसा रास्ता निकालता है।

तीनों युवा नेताओं ने जाट आंदोलनकारियों से उग्रता त्याग शांतिपूर्वक आंदोलन जारी रखने की अपील की है।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम गजरौला.