Header Ads

'केजरीवाल जी आपकी सैलरी अच्छी खासी है, फिर जूते क्यों नहीं पहनते?'

मुख्यमंत्री-अरविन्द-केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को एक व्यापारी ने डिमांड ड्राफ्ट भेजा है। उसके साथ एक चिट्ठी भी आयी है। सुमित अग्रवाल नाम का यह व्यापारी विशाखापट्टनम में रहता है।

सुमित ने खुले खत के साथ 364 रुपये भेजते हुए लिखा है कि बहुत यत्न के बाद वह सिर्फ इतने रुपये जुटा पाया है। उसने गुजारिश की है कि केजरीवाल इससे अपने लिए जूते खरीद लें। यदि उन्हें ओर पैसे ही जरुरत हो तो वह पूरे शहर का चक्कर लगाकर पैसे इकट्ठा कर लेगा।

सुमित ने अरविन्द केजरीवाल को जूते पहनने की हिदायत इसलिए दी है क्योंकि सीएम केजरीवाल 26 जनवरी को राष्ट्रपति भवन में सैंडल में दिखे थे। वहां फ्रांस राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के सम्मान में एक कार्यक्रम का आयोजन हुआ था।

पत्र में कहा गया है कि केजरीवाल राष्ट्रपति भवन में थे न कि किसी रामलीला या धरने आदि पर जो इस तरह सैंडल पहन कर गये थे।

सुमित ने केजरीवाल से सवाल किया है कि क्या यह उनका पब्लिसिटी स्टंट तो नहीं था। उनकी तनख्वाह दो लाख रुपये है, लेकिन वे खास मौकों पर सैंडल पहनकर आते हैं।

जिस व्यक्ति ने केजरीवाल को खुला खत लिखा है वह विशाखापट्टनम का व्यापारी है और मेकैनिकल इंजीनियरिंग डिग्री धारक है।

इसपर जानेमाने व्यंगकार नीरज बधवार ने भी चुटकी ली है :
'केजरीवाल इकलौते आदमी हैं जिनके मंदिर के बाहर से कभी जूते चोरी नहीं हो सकते और इसका कारण है तो आपको पता ही होगा।’

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम के लिए मोहित सिंह.