Header Ads

खुलेआम सेहत से खिलवाड़ : डोमीनोज, केएफसी के बाद अब सागर रत्ना रेस्टोरेंट पर जुर्माना

sagar-ratna-restaurant-amroha

जानेमाने रेस्टोरेंट के नमूने जब फेल होते हैं तो हमें सोचने पर मजबूर होना पड़ता है कि उन ढाबों, होटलों आदि में खाद्य पदार्थ कितने खतरनाक हो सकते हैं। डोमीनोज पिज्जा हो, केएफसी हो या अब सागर रत्ना रेस्टोरेंट में गड़बड़ी का मामला, सभी में खाद्य सामग्री के नमूने फेल हुए या अधोमानक निकले हैं।

यह खुलेआम लोगों की सेहत से खिलवाड़ है। ऐसे रेस्टोरेंट आदि में खाने से भी लोगों को भय लगने लगा है।

ताजा मामले की बात की जाये तो हाइवे स्थित जानमाना नाम सागर रत्ना रेस्टोरेंट में चना मसाला का सैंपल अधोमानक निकला। प्रयोगशाला में जांच हुई और जांच में चने मसाले की असलियत का पता चला।

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग की ओर से मसाले का सैंपल लिया गया था।

गजरौला में केएफसी के तेल का नमूना भी फेल

गजरौला में डोमिनोज का सैंपल असुरक्षित, लाइसेंस निलंबित

सागर रत्ना पर जुर्माना लगाया गया है। रेस्टोरेंट के स्वामी पर एक लाख रुपये और मैनेजर दीपक गौर पर 50 हजार का जुर्माना लगाया गया है।

कहा गया है कि सागर रत्ना की ओर से चना मसाला के बारे में कई तथ्यों को छुपाया गया। सवाल किये जा रहे हैं कि उन्होंने ऐसा क्यों किया?

एडीएम महमूद आलम अंसारी ने कहा है कि खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जा रही है।

पिछले दिनों गजरौला में स्थित केएफसी, डोमीनोज पिज्जा, आदि पर खाद्य सामग्री गड़बड़ होने पर भारी जुर्माना लगाया गया था। डोमीनोज का तो लाइसेंस तक निलंबित कर लिया गया था।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम अमरोहा.