Header Ads

GAJRAULA PALIKA ELECTION : कौन बनेगा गजरौला का पहला पालिकाध्यक्ष?

gajraula-palika-election

नगर पालिका बनने के बाद यहां अध्यक्ष पद के दावेदारों की सूची लंबी होनी शुरु हो गयी है। हालांकि अभी यह निश्चित नहीं है कि गजरौला सामान्य सीट रहेगा अथवा आरक्षित। पिछले चुनाव में यह एससी/एसटी आरक्षित था। जबकि उससे पूर्व सामान्य सीट भी रहा है। अभीतक यह ओबीसी या बीसी सूची से बाहर रहा है। महिला आरक्षण में किसी भी वर्ग में भी नहीं रखा गया। ऐसे में कुछ जानकारों का कहना है कि अन्य पिछड़ा वर्ग की महिला के लिए इस बार गजरौला का नाम आगे किया जा सकता है। यह तो समय बतायेगा कि आरक्षण का पैमाना क्या होगा और उसमें कौन सा वर्ग फिट बैठेगा लेकिन विधानसभा चुनाव की तैयारी के बीच यहां पालिका चुनाव की आहट भी सुनी जा रही है।

यहां से वैसे तो अध्यक्ष पद के लिए बहुत से नाम सामने आ रहे हैं तथा जैसे-जैसे चुनाव निकट आता जायेगा कई नये नाम और भी सामने आयेंगे। इस समय पूर्व जिला पंचायत सदस्य चौ. वीरेन्द्र सिंह, डा. आशुतोष भूषण शर्मा, पूर्व बसपा लोकसभा प्रभारी देवेन्द्र पाल उर्फ गुड्डू, बसपा जिला कोषाध्यक्ष मारुत प्रभाकर, भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह औलख, सभासद अनिल अग्रवाल और उद्योगपति साबिर अली आदि कई चेहरे अध्यक्ष पद के दावेदार माने जा रहे हैं। पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष रोहताश कुमार शर्मा और सपा नेता अनवार सैफी भी प्रमुख दावेदारों में हैं।

  • चौ. वीरेन्द्र सिंह

चौ. वीरेन्द्र सिंह लोकप्रिय बसपा नेता हैं। वे जिला पंचायत सदस्य के साथ ही जिला योजना समिति के सदस्य भी रह चुके। इस बार वे बीडीसी का चुनाव रिकार्ड मतों से जीते। यदि बसपा पालिका अध्यक्ष पद के लिए उन्हें मैदान में लायेगी तो वे बहुत दमदार उम्मीदवार साबित होंगे।

  • डा. आशुतोष भूषण शर्मा

डा. आशुतोष भूषण शर्मा गजरौला के प्रतिष्ठित चिकित्सक परिवार के सदस्य हैं, जो हर आम और हर खास व्यक्ति के बीच समान रुप से लोकप्रिय हैं। सपा उन्हें मैदान में लायेगी तो वे मजबूत प्रत्याशी सिद्ध होंगे। वे कई सामाजिक सेवाओं में संलग्न हैं।


  • देवेन्द्र पाल उर्फ गुड्डू

बसपा नेता देवेन्द्रपाल गुड्डू नगर के हंसमुख तथा लोकप्रिय युवा चेहरा हैं। संगठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे हैं। जनमत जुटाने और सामाजिक समरसता कायम करने वाले लोगों में उनका नाम लिया जाता है। उनका कहना है कि पार्टी उन्हें मैदान में लायेगी तो वे फतह हासिल करने में पीछे नहीं रहेंगे।


  • सुरेन्द्र औलख

भाजपा में सबसे लोकप्रिय तथा शांत स्वभाव के धनी सुरेन्द्र औलख भी पालिका अध्यक्ष उम्मीदवारों में मजबूत माने जा रहे हैं। वे पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता होने के बावजूद स्थानीय जनमानस के सभी वर्गों में बेहतर प्रभाव रखते हैं। भाजपा आगे लाये तो विपक्ष को उन्हें हराना आसान नहीं होगा।

  • मारुत प्रभाकर

मारुत प्रभाकर बसपा के युवा ब्राह्मण चेहरे के रुप में पहचान रखते हैं। छात्र जीवन से राजनीतिक सफर शुरु करने वाले मारुत ने संगठन से ब्राह्मणों को जोड़ने में काफी प्रयास किया है। यहां के नवयुवकों में उनकी दमदार छवि के कारण भी उनका पलड़ा काफी भारी है।

  • अनिल कुमार अग्रवाल

अनिल कुमार अग्रवाल ऐसे सभासद हैं जिन्होंने अपने वार्ड में दूसरे वार्डों से स्तरीय काम कराया है तथा वे नगर के कमजोर वर्ग के लोगों के लिए हमेशा खड़े रहते हैं। एक चेयरमेन को जो काम करना चाहिए उसे वे सभासद रहते हुए भी करने का प्रयास करते हैं। उनकी यह जनसेवा उन्हें बल प्रदान करेगी।

  • रोहताश कुमार शर्मा

यदि सामान्य सीट रही तो पूर्व चेयरमेन तथा ज्ञान भारती इंटर कालेज के प्रबंधक रोहताश कुमार शर्मा एक बार फिर से मैदान में होंगे। शर्मा भी बसपा नेता हैं। वे नगर पंचायत अध्यक्ष का चुनाव पहली बार लड़कर विजयी होने में सफल रहे थे। वे मैदान में आये तो मुकाबला बहुत ही संघर्षपूर्ण होगा।

सपा नेता उमर फारुख सैफी के छोटे भाई अनवार सैफी सहित कई दूसरे चेहरे भी मैदान में आ सकते हैं।

गजरौला पालिका का पहला अध्यक्ष बनने की हसरत बहुत लोगों की है। ऐसे में उम्मीदवारों की सूची बढ़ेगी।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम.