Header Ads

BLOG : कन्हैया के हीरो बनने के बाद हार्दिक पटेल और पीएम मोदी बहुत याद आये

kanaihya-kumar-jnu-release

कन्हैया आजाद हो गया। उसे छह महीने की अंतरिम जमानत मिल गयी है। उसने जेएनयू में भाषण दिया और कहा कि हमें देश से नहीं, देश में आजादी चाहिए। भारत से नहीं बल्कि आजादी भूख से चाहिए।

टीवी पर जब भी उसके भाषण के अंश चलते हैं तो लोग उन्हें बार-बार देखने को उत्सुक होते हैं। यूट्यूब आदि सोशल नेटवर्क पर कन्हैया छाता जा रहा है। इसकी सबसे ज्यादा दिक्कत उसके समर्थकों के अनुसार उन लोगों को हो रही है जो नहीं चाहते थे कि कन्हैया जेल से बाहर आये। मगर उनकी मंशा पूरी न हो सकी।

आते ही कन्हैया पहले से अधिक चर्चित हो गया।

पढ़ें : युवाओं के रोल मॉडल बने कन्हैया : द्वापर के कन्हैया जैसी ख्याति का स्वामी बना दिया


सबसे मजेदार बात तो यह है कि दिल्ली पुलिस खुद को असहाय महसूस कर रही है। कुछ दिन पहले तक बीएस बस्सी कहते नहीं थक रहे थे कि आगे-आगे देखिये होता है क्या, अब हर किसी ने देख लिया कि आगे क्या हुआ। बेचारे बस्सी केजरीवाल सरकार से टांग अड़ाते-अड़ाते खुद रिटायरमेंट पा गये।

अरविन्द केजरीवाल भी वहीं हैं, कन्हैया भी वहीं हैं, मगर बस्सी साहब कहीं नजर नहीं आ रहे।

कन्हैया को रातोंरात सुपरस्टार उन्हीं लोगों ने बना दिया जो उसे देशद्रोही साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे थे


उधर कुछ चैनल देशभक्ति की मिसालें दे देकर दर्शकों में देशभक्ति की अलख जलाने का काम कर रहे थे। ऐसा माहौल बनाया दिया गया था कि छोटे बच्चे भी बड़ों से सवाल करने लगे थे कि देशभक्ति और देशविरोध में क्या अंतर है? चलिए इसी बहाने बचपन से बच्चा देशभक्त हो रहा था। लेकिन एक दूसरा मसला यहां खड़ा हो रहा था कि जो देशभक्ति के नारे नहीं लगायेगा वह सीधा-सीधा देशद्रोही हो जायेगा। अब बच्चा बेचारा टेंशन में था कि कहीं दूसरे उसे देशद्रोही साबित कर कोई सजा न दे दें।

कुछ समाचार चैनल ब्रेकिंग न्यूज में यह बताकर फूले नहीं समा रहे थे कि उनका वीडियो जांच के लिए सलेक्ट हो गया है। वहीं दूसरा चैनल उस चैनल की पोल खोलने में जुटा था कि वीडियो के साथ छेड़खानी की गयी है। जांच में भी पाया गया कि दो वीडियो फर्जी हैं।

कन्हैया को रातोंरात सुपरस्टार उन्हीं लोगों ने बना दिया जो उसे देशद्रोही साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे थे। उनकी देशभक्ति रह-रहकर जाग रही थी। वे खुद को अब कोस रहे हैं, ऐसा क्यों किया?

मुझे अचानक हार्दिक पटेल का स्मरण हो आया और मैंने गहरी सांस ली।

वहीं हमारे बहुमत की सरकार वाले पीएम नरेन्द्र मोदी भी इसी बीच याद आ गये और उनके सहयोगी भी।

वाह! राजनीति ने तो कमाल कर दिया।

-हरमिन्दर सिंह.