Header Ads

युवाओं के रोल मॉडल बने कन्हैया : द्वापर के कन्हैया जैसी ख्याति का स्वामी बना दिया

kanihya-kumar-JNU

देश के युवा पीढ़ी में देश को नेतृत्व देने वाली प्रतिभाओं की कमी नहीं है। जब-जब शक्तिशाली ताकतें कमजोर और कमाऊ वर्ग का शोषण कर उसे दबाने का प्रयास करती हैं तभी कोई न कोई प्रतिभा बाहर निकलकर पीड़ित समाज को न्याय के लिए स्वतः ही सामने आती है। हाल ही में जेएनयू विवाद ने कन्हैया कुमार जैसी प्रतिभा की हकीकत देश के लोगों के सामने बयान कर दी।

कन्हैया के उद्गार, विचार और भाषण शैली ने देश के बड़े-बड़े विद्वानों, नेताओं तथा पत्रकारों पर गहरा प्रभाव डाला है। आम आदमी खासकर नवयुवकों में वे रातों-रात हीरो बनकर उभरे हैं। बाईस दिनों की जेल ने कन्हैया कुमार को द्वापर के कन्हैया जैसी ख्याति का स्वामी बना दिया।

ब्लॉग : कन्हैया के हीरो बनने के बाद हार्दिक पटेल और पीएम मोदी बहुत याद आये


जेल जाने से पूर्व कन्हैया जेएनयू के कैम्पस तक सीमित एक छात्र नेता थे जबकि कारागार में चन्द दिनों के मेहमान बनने के बाद वे पूरे देश की युवा पीढ़ी के नायक तथा आम आदमी की आशा की किरण बनकर उभरे हैं और उनकी पहचान विश्वपटल तक पहुंच गयी।

देश में चर्चित नरेन्द्र मोदी और राहुल गांधी दोनों कन्हैया ने रिहा होते ही उस मीडिया से गायब कर दिया, जिसपर वे छाये हुए थे।

सभी टीवी चैनलों पर दिन-रात वह कन्हैया कुमार ही छाये रहे जिन्हें चन्द दिनों पहले देशद्रोही आरोपित कर जेल भेज दिया गया था।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम.