Header Ads

बेरोजगारी से तंग छात्र उद्योगों के खिलाफ खड़े होने को तैयार

nepal-singh-rana-gajraula

उच्च शिक्षा प्राप्त छात्रों की एक बैठक में रोजगार के सिलसिले में स्थानीय उद्योगों द्वारा स्थानीय युवकों की उपेक्षा पर रोष व्यक्त किया तथा प्राथमिकता के आधार पर क्षेत्रीय लोगों को रोजगार दिलाने को संघर्ष का बिगुल बजाया। जुबिलेंट लाइफ साइंसेज लि. और टेवा एपीआई आदि मुख्य निशाना रहे।

एक होटल में आयोजित बैठक में सैकड़ों छात्र शामिल हुए। जिन्हें संबोधित करते हुए छात्र नेता नैपाल सिंह राणा ने कहा कि गजरौला के उद्योग हमारी जमीनों पर लगे हैं। हमारा भूमिगत जल खींचकर इन्होंने जलस्तर नीचे पहुंचा दिया। पूरा वायुमंडल दूषित कर दिया, पानी पीने लायक नहीं छोड़ा, फसलें बर्बाद कर दीं। लोग बीमारियों के चंगुल में पहुंचा दिये। इस सबकुछ बलिदान के बावजूद हमें यहां काम नहीं दिया जा रहा। बड़े और मध्यम वेतन पर बाहरी लोग रखे जाते हैं।

nepal-singh-rana-gajraula1

राणा ने कहा कि सभी छात्र एकजुट होकर संघर्ष को तैयार हैं तथा जल्दी ही संघर्ष समिति को विस्तार देकर जुबिलेंट लाइफ साइंसेज, टेवा एपीआई इंडिया लि. तथा तिरुपति टैक्सटाइल्स के खिलाफ आंदोलन छेड़ा जायेगा।

संदीप भड़ाना ने शीघ्र ही आगामी बैठक का समय तय करने का सुझाव रखा तथा होली बाद कभी भी आंदोलन छेड़ने का निर्णय लिया गया।

बैठक में देवेन्द्र विधूड़ी, संदीप भड़ाना, अमरपाल यादव, दीपक भड़ाना, भीम गुर्जर, सिधांत नागर, गुड्डू खान, फरमान मलिक, कपिल नागर, आदि छात्र नेता मौजूद थे।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम गजरौला.