Header Ads

योगी आदित्यनाथ ने क्यों अनुपम खेर को 'रियल लाइफ विलेन’ कहा?

yogi-adityanath-and-anupam-kher

अनुपम खेर पद्म पुरस्कार पाने के बाद अपने एक फोटो को लेकर खिल्ली उड़वा चुके थे। असहिष्णुता की बात करने वालों के विरोध में एक मार्च में अनुपम खेर ने हिस्सा लिया था और कुछ दिन बाद भारत सरकार की ओर से पद्म पुरस्कार की घोषणा में उनका नाम था। उस समय ली गयी एक तस्वीर में अनुपम खेर के साथ सपना अवस्थी और मधुर भंडारकर भी नजर आये थे। तीनों को पुरस्कार मिला है।

ताजा मामले में अनुपम खेर अपने अंदर के उबाल को काबू कर पाने में फिर असफल हुए और कोलकाता में टेलीग्राफ अखबार के एक कार्यक्रम में पीएम मोदी की जमकर तारीफ की। उनके उस भाषण को सुनकर ऐसा भी लग सकता था कि जैसे अनुपम खेर पीएम का फोटो हमेशा सीने से लगाकर सोते हैं।

उस दौरान उन्होंने कहा था कि पीएम को बदनाम करने वाले योगी आदित्यनाथ और साध्वी प्राची को जेल में डाल देना चाहिए। उनका यह बयान असहिष्णुता को लेकर था।

अनुपम तब तो बोल गये थे, भावनाओं में बह गये होंगे, लेकिन योगी आदित्यनाथ ने उन्हें 'रियल लाइफ विलेन’ की संज्ञा दे डाली।

योगी ने कहा कि वे उनकी सदभावना के लिए धन्यवाद देते हैं, लेकिन अनुपम खेर ने साबित किया है कि वे रील लाइफ में ही नहीं, रियल लाइफ में भी खलनायक हैं।

इससे साबित हो गया कि योगी और अनुपम का यदि आमना-सामना हो जाये तो वे एक-दूसरे को किस तरह देखेंगे, यह समझाने की जरुरत नहीं। भाजपा का समर्थन करने वाले और भाजपा के सांसद या नेता दोनों अपनी-अपनी बात इस तरह कह रहे हैं जिससे ऐसा लग रहा है कि आने वाले दिनों में अंदरखाने में टूट-फूट की आशंका है।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम के लिए अनुज सिंह.