Header Ads

सपा नेताओं की परिक्रमा में जुटे गजरौला पालिकाध्यक्ष हरपाल सिंह

harpal-singh-mumtaz-ali-bhutto

गजरौला पालिकाध्यक्ष तथा भाजपा नेता आजकल सपा नेताओं की परिक्रमा करने में जुटे हैं। नगर या आसपास जहां भी सपा का कोई नेता किसी बैठक आदि में जाता है तो हरपाल सिंह उससे जरुर संपर्क करते हैं। यही नहीं बल्कि वे सपा की बैठकों में भी मौजूद रहते हैं।

सबसे ताजा उदाहरण शुक्रवार को होशंगपुर में जिला पंचायत अध्यक्ष रेनु चौधरी की बैठक में उनका शामिल होना है। इससे पूर्व भी वे आयेदिन सपा नेताओं से कुछ अधिक ही नजदीकियां बढ़ाते देखे गये हैं। हालांकि भाजपा की कई बैठकों से या तो वे नदारद रहे अथवा वहां उन्होंने कार्यकर्ताओं में गुटबंदी कराने का प्रयास किया। उनके इस बदलते व्यवहार से राजनैतिक गलियारों में हरपाल सिंह की सपा में जाने की चरचायें शुरु हो गयी हैं।

बात 30 मार्च की है। हरपाल सिंह के यहां नये बने मकान के पास विजयनगर के एक स्कूल में एक कार्यक्रम में ब्लॉक प्रमुख मुमताज अली उर्फ भुट्टो तथा सपा के प्रदेश सचिव उमर फारुख सैफी मुख्य अतिथि की हैसियत से मौजूद थे। पता चला तो बाद में हरपाल सिंह भी वहां आ गये। यही नहीं कार्यक्रम बीच में ही छोड़ हरपाल सिंह, मुमताज अली और उमर फारुख को साथ लेकर चन्द कदम पर पैदल ही अपने आवास पर ले गये। दो-तीन सपा कार्यकर्ता भी उनके साथ थे। इन लोगों में चाय-पानी के दौरान आधा घंटा बात चली। क्या बात चली, उसे वे ही जानते होंगे।

harpal-singh-renu-chaudhary

शुक्रवार में ग्राम होशंगपुर गूजर में जिला पंचायत अध्यक्ष रेनु चौधरी की सभा के दौरान भी हरपाल सिंह मौजूद रहे। यहां वे सपा नेता कावेन्द्र सिंह के साथ गये थे। पूर्व मंत्री चौ. चन्द्रपाल सिंह की बैठकों में भी वे बराबर हाजिरी दे रहे हैं। सपा से जुड़े अधिकांश लोगों को वे ठेकों में भी प्राथमिकता दे रहे हैं। हरपाल सिंह और सपा नेताओं की बढ़ती नजदीकियों से यहां उनके पाला बदलने की चरचायें सुनी जा सकती हैं।

पिछले दिनों भाजपा मंडल अध्यक्षों की चयन प्रक्रिया में भी कार्यकर्ताओं में फूट के बीज बो दिये थे। नगर का अध्यक्ष निर्विरोध चुना जाने की हालत थी लेकिन दूसरे पक्ष को उभारकर उन्होंने जाट बनाम चौहान बनाकर चुनाव करा दिया। इससे संगठन में लंबे समय से एकजुट रहने वाली दोनों बिरादरियों में शंका पैदा करने का प्रयास किया।

हरपाल सिंह की सियासत को सियासी गलियारों में पाला बदलने का प्रयास बताया जा रहा है। लोग कह रहे हैं कि वे दबे पांव अपनी रणनीति बना रहे हैं तथा समय पर अपने अनुकूल कोई भी फैसला लेने में नहीं हिचकिचायेंगे। सपा का एक छुटभैया नेता उनका हमजोली बना हुआ है। उसके अनुज को काफी समय से करोड़ों के ठेके हरपाल सिंह नगर पंचायत में दे चुके हैं।

जब हरपाल सिंह से सपा से बढ़ती नजदीकियों पर सवाल किया गया तो हंस कर टाल गये, थोड़ा रुककर बोले, जो आप कहें सब ठीक है।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम गजरौला.