Header Ads

मंडी धनौरा विधानसभा सीट : आलोक भारती लगा सकते हैं सपा की नैया पार

alok-bharti-sp-candidate

सपा हाइकमान यह फैसला ले चुकी कि विधायकों को उम्मीदवार नहीं बनाया जायेगा, जिनपर सीट नहीं निकालने का संदेह होगा। ऐसे में कई विधायकों का पत्ता काटा जाना तय है। पार्टी सूत्रों से पता चला है कि विधायक एम. चन्द्रा की उम्मीदवारी भी खतरे में है। ऐेसे में पार्टी ने यहां मजबूत उम्मीदवार की तलाश शुरु कर दी है।

ऐसे में यदि एम. चन्द्रा का टिकट कट गया तो इस आरक्षित सीट से यहां के सबसे बड़े दलित समुदाय, जाटव समाज में आलोक भारती सबसे मजबूत उम्मीदवार सिद्ध होंगे। यह तो पता नहीं कि वे टिकटार्थियों की लाइन में हैं या नहीं, लेकिन मौजूदा हालत में भारती के पक्ष में वे सभी कारक मौजूद हैं, जिनके सहारे धनौरा सीट पर सपा अपना कब्जा बरकरार रख सकती है।

चालीस वर्षीय आलोक भारती एकमात्र ऐसे दलित नेता हैं, जिनकी ओर इस विशाल वोट बैंक का सबसे अधिक झुकाव है। यह यूं ही नहीं, बल्कि इस सबके पीछे ठोस कारण है। एक दशक से अधिक समय से आलोक इस इलाके में सक्रिय हैं। स्थानीय स्तर पर वे वैसे तो सभी वर्गों के लोगों से मेल मिलाप रखते हैं, लेकिन दलित समुदाय में उनकी घुसपैठ दूसरे दलित नेताओं से अधिक है। वे अपने समुदाय में बड़े भाग के वोट हथियाने में सफल रहेंगे।

सपा का पुश्तैनी मुस्लिम तथा यादव मतदाता उनसे पार्टी के नाते पहले ही जुड़ा हुआ है। वे सुख-दुख में सभी वर्गों के साथ रहे हैं। लोगों से कटे रहने की विधायक एम. चन्द्रा की नाराजगी को भारती दूर करने में अमोघ अस्त्र सिद्ध होंगे। तीसरा बड़ा वोट बैंक जाट समाज का है, जिसने बीते चुनाव में एम. चन्द्रा के कारण सपा से दूरी रखी। आज भी यही हाल है लेकिन आलोक भारती सपा के एकमात्र ऐसे दलित नेता हैं, जिनका इस बिरादरी से बहुत ही मधुर संबंध है।

आलोक तीन विषयों में स्नातकोत्तर हैं। वे वकालत में सक्रिय हैं। जिला पंचायत सदस्य का चुनाव भारी बहुमत से जीत चुके हैं। जिला योजना समिति के भी सदस्य रहे हैं।

सम्प्रति उनकी पत्नि आशा भारती गन्ना समिति की संचालक हैं। पूर्व में धनौरा सहकारी समिति की सभापति तथा कृभको और इफको की संचालक भी रह चुकी हैं।

आलोक भारती पत्नि सहित क्षेत्रीय राजनीति के दायित्वों का निर्वहन कर रहे है। वे जनसेवा, स्वच्छ छवि और समाजवादी विचारधारा के कारण सभी वर्गों में बहुत लोकप्रिय चेहरा माने जाते हैं। जो राजनैतिक समीकरण आजकल यहां बन रहे हैं तथा कुछ दलों में गठजोड़ की संभावना है, उसमें आलोक भारती ही एकमात्र व्यक्तित्व हैं जो सपा की नैया पार लगा सकते हैं।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम मंडी धनौरा.