Header Ads

परशुराम जयंती की भव्य तैयारियां, ब्राह्मणों से एकजुट हो भव्य कार्यक्रम का आह्वान

parshuram-jayanti-gajraula

इस बार परशुराम जयंती को ब्राह्मण समाज यादगार समारोह बनाना चाहता है जिसके लिए सभी विप्र बंधु प्राणपण से जुट गये हैं। इसी सिलसिले में यहां एक बैठक में समाज के शीर्ष पुरुषों ने भाग लिया तथा व्यापक विचार विमर्श के साथ ब्राह्मणों की एकता पर बल दिया गया। आचरण सुधार पर खास जोर देते हुए, इसे ब्राह्मणत्व की पहचान बताया। सामाजिक कुरीतियों पर प्रहार करते हुए सुदृढ़ और संस्कारवान समाज की स्थापना अपना उद्देश्य बताया।

बैठक में कहा गया कि 9 मई को भगवान परशुराम का जन्मदिवस मनाने में ब्राह्मण समाज को तत्परता के साथ अभी जुटकर व्यापक तैयारियां शुरु कर देनी चाहिए। उन्होंने इसे ब्राह्मणों के अस्तित्व का सवाल बताया। कार्यक्रम की रुपरेखा की जानकारी देते हुए बताया कि जगद्गुरु स्वामी राजराजेश्वराश्रम महाराज मुख्य अतिथि और जूना अखाड़ा प्रमुख कर्णपुरी महाराज विशिष्ट अतिथि के रुप में आमंत्रित हैं। कई महत्वपूर्ण हस्तियां आमंत्रित हैं। ऐसे में समारोह को भव्य बनाने की तैयारी तेज कर दी है। सभी विप्र बंधुओं से एकजुट होकर कार्यक्रम को सफल बनाने का आग्रह किया गया।

पं. रोहताश कुमार शर्मा ने कहा कि इस समय सभी वर्ग वर्चस्व की लड़ाई लड़ रहे हैं। यदि हम भी ऐसा ही करें तो क्या बुराई है। सभी लोगों की एकजुटता से सफलता मिलती है। उन्होंने समाज की एकजुटता बनाये रखने का आहवान किया।

पं. आशुतोष भूषण शर्मा ने कहा कि हम सभी को एक मंच पर बैठकर आपसी मतभेद दूर करने होंगे। यदि ऐसा कर लेते हैं तो आने वाला समय हमारा होगा।

पं. रविभूषण शर्मा ने बताया कि झांकी की तैयारी पूरी है, जिसमें भगवान परशुराम के साथ वामन अवतार, चन्द्रशेखर आजाद, चाणक्य, भारत माता व मालवीय जी केन्द्र में होंगे। पं. हरिदत्त शास्त्री ने तिलक और जनेउ धारण करना ब्राह्मणों की पहचान बताया।

पं. शिवशंकर शर्मा, देवेन्द्र शर्मा, अश्विनी शर्मा, पं. रमेश चन्द शर्मा, संतोष शर्मा, योगेश प्रभाकर, सुभाष चन्द शर्मा, लोकेश शर्मा, राकेश शर्मा ने भी विचार रखे। बैठक में भारी संख्या में ब्राह्मण बंधु मौजूद थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता पं. योगेन्द्र शर्मा ने की।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम गजरौला.