Header Ads

छात्र संघर्ष समिति : हस्ताक्षर अभियान के बाद बड़े आंदोलन की तैयारी

chhatr-sangharsh-samiti-gajraula

छात्र संघर्ष समिति अपने आंदोलन को व्यापक बनाने तथा उद्देश्य की सफलता के लिए कई बिन्दुओं पर विचार कर रही है। समिति के थिंक टैंक इस निर्णय पर पहुंचे कि आसपास के गांवों के शिक्षित नवयुवकों को संघर्ष के लिए तैयार करने को हस्ताक्षर अभियान शुरु किया जाये। इससे आंदोलन को जहां जनसमर्थन हासिल होगा, वहीं प्रशासन और प्रबंधन भी उनकी बात सुनने को तैयार हो सकेगा।

इस सिलसिले में छात्रों ने डिग्री कालेज में एक बैठक की। बैठक में प्रदूषण से बात शुरु हुई और उन सभी इकाईयों की चर्चा की गयी जो वास्तव में प्रदूषण कर रही हैं। इस बार कामाक्षी पेपर्स और कोरल न्यूज प्रिंट का भी जिक्र हुआ। ये पुराना कागज साफ करने में खतरनाक रसायनों का प्रयोग करते हैं जिन्हें पानी के साथ फैक्ट्रियां बाहर निकाल कर जल प्रदूषित कर रही हैं।

छात्रों ने कहा कि बेरोजगारी इलाके की गंभीर समस्या है। बेरोजगारों की फौज लगातार बढ़ रही है। जिसकी ओर शासन, प्रशासन तथा जनप्रतिनिधि, कोई भी ध्यान नहीं दे रहा। छात्रों ने चेतावनी दी है कि नौजवानों की बर्दाश्त करने की क्षमता खत्म हो रही है। यदि उनके संयम का बांध टूट गया तो हालात बेकाबू भी हो सकते हैं। इससे पहले ही हमारे दर्द को समझकर रोजगार उपलब्ध कराये जायें तो बेहतर होगा।

बैठक में फैसला लिया गया कि जल्दी ही गांव-गांव जाकर हस्ताक्षर अभियान शुरु किया जायेगा। उसके बाद एकजुट होकर आंदोलन को बड़े स्तर पर चलाया जायेगा।

बैठक में छात्र नेता संदीप भड़ाना, नैपाल सिंह राणा, आजम मेवाती, फिरोज खान, अमित भारती, पवन राणा, सुरेन्द्र चौहान, आकाश भारद्वाज, जितेन्द्र चौहान, नौशाद शेख, शिवम राणा, सिद्धांत गुर्जर, तरुण, सचिन आदि ने भाग लिया।

-गजरौला टाइम्स डॉट कॉम गजरौला.