Header Ads

जाट महासम्मेलन में भाजपा विरोधी स्वर

jat-samellan-gajraula
भले ही जाट महासम्मेलन में आयोजकों ने उसे किसी दल विशेष का अखाड़ा बनाये रखने का सफल प्रयास किया लेकिन इशारों-इशारों में सभी वक्ताओं ने यह बताने का प्रयास किया कि जाट भाजपा के खिलाफ हैं.

यशपाल मलिक, चौ. चन्द्रपाल सिंह, तथा चौ. विजयपाल सिंह समेत सभी ने भाजपा को जाट विरोधी तथा धोखेबाज पार्टी बताया और हर हाल में उसे हराने को एकजुट होने का आहवान किया। वक्ताओं और सम्मेलन का मिजाज भांप कई भाजपा भक्त जाट इस आयोजन में आये ही नहीं, जबकि जो आये भी वे खामोश रहे तथा कई धीरे-धीरे वहां से खिसक भी लिए।

साथ में पढ़ें : जाटों ने भरी हुंकार : एकजुटता के साथ ताकत दिखाने का संकल्प

यशपाल मलिक तो यहां तक कह गये कि हरियाणा में जाट आरक्षण में भाजपा ने बाधा डाली जबकि यूपी में भाजपा की सरकार न होने से जाटों का आरक्षण बचा हुआ है। यदि गलती से यहां भी भाजपा आ गयी तो यहां भी आरक्षण खत्म होगा। एक वक्ता ने तो यहां तक कहा कि भूमि अधिग्रहण के लिए भाजपा यूपी में सरकार के इंतजार में हैं। वह आयी तो जमीनें तो जायेंगी ही, साथ ही हरियाणा की तरह यहां भी सैकड़ों युवकों को देशद्रोह में जेल जाना पड़ सकता है। कई अन्य वक्ता भी इस राय से पूरी तरह सहमत थे।


चरण सिंह और टिकैत का गुणगान, अजीत अनजान :
जाट सम्मेलन में पूर्व प्रधानमंत्री चौ. चरण सिंह और भाकियू संस्थापक चौ. महेन्द्र सिंह टिकैत की जमकर तारीफ की गयी। उन्हें जाटों के गौरव, देशभक्त तथा किसानों के मसीहा बताया तथा उनका अनुसरण करने का आहवान किया जबकि रालोद नेता चौ. अजीत सिंह का किसी ने भी नाम तक नहीं लिया। हालांकि चौ. अजीत सिंह चौ. चरण सिंह के राजनैतिक वारिस होने का दम भरते हैं।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...