Header Ads

जाटों ने भरी हुंकार : एकजुटता के साथ ताकत दिखाने का संकल्प

jat-samellan-gajraula-amroha
सभी राजनैतिक दलों के छत्रप इस महासभा में शामिल हुए लेकिन आयोजकों द्वारा इसे अराजनैतिक मंच बनाये रखने का पूरा प्रयास किया, जो सफल भी रहा.

यहां आयोजित जाट महासम्मेलन में जाट सरदारों ने बिरादरी की एकजुटता पर संतोष जाहिर करते हुए आगामी विधानसभा चुनावों में अपनी ताकत का अहसास कराने का संदेश दिया। सभी राजनैतिक दलों के छत्रप इस महासभा में शामिल हुए लेकिन आयोजकों द्वारा इसे अराजनैतिक मंच बनाये रखने का पूरा प्रयास किया, जो सफल भी रहा।

जाट समाज के वयोवृद्ध नेता पूर्व मंत्री चौ. चंद्रपाल सिंह ने अपना भाषण शुरु करते ही जाट समाज को एक ऐसी बिरादरी की संज्ञा दे डाली, जिसका सभी जातियों द्वारा बहिष्कार कर उसे अलग-थलग कर दिया हो। लेकिन उन्होंने महासम्मेलन में भारी भीड़ देखकर यह भी कहा कि मुझे यह देखकर भारी खुशी भी है कि हमारे लोग एकजुट हैं। उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी अपनी पुत्रवधु को मिलने के पीछे पूरे जिले की जाट बिरादरी की एकजुटता को बताया तथा कहा कि एकता में बड़ी ताकत है। इसीलिए हमें आपसी मतभेद भूलकर एकसाथ खड़ा रहना है।

जरुर पढ़ें : जाट महासम्मेलन में भाजपा विरोधी स्वर

चन्द्रपाल सिंह ने कहा कि वे मामूली से आदमी थे लेकिन चौ. चरण सिंह ने उन्हें बहुत ऊचाईंयों तक पहुंचाया। उन्होंने चरण सिंह की जमकर प्रशंसा की तथा जाटों को उनके बताये रास्ते पर चलने का आहवान किया। उन्होंने मौजूद जनसमूह का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि वे बिरादरी के सेवक हैं और जब भी उनके लायक सेवा हो तो वे अपने सामर्थ्य के मुताबिक हर तरह तैयार हैं। उन्होंने भाजपा जैसे दलों से सावधान रहने का आग्रह भी किया।

jat-samellan

मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष रेनू चौधरी ने अपनी जीत के लिए पूरी बिरादरी का आभार जताया। उन्होंने गंगा मेला टोल मुक्त करने के अपने फैसले की जानकारी के साथ कहा कि वे इस बार बेहतर सुविधाओं तथा अच्छी व्यवस्थाओं के साथ मेला संपन्न कराना चाहती हैं जिसमें आप सब को मेरा साथ देना होगा।

सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे चौ. विजयपाल सिंह ने एक दूसरे की आलोचना बंद कर आपसी एकजुटता के साथ आगे बढ़ने का आहवान किया। उन्होंने जाटों को सबसे ताकतवर और साहसी बिरादरी बताया।

jat-samellan-gajraula

महासम्मेलन में जाट महासभा के प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी, जाट आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक, जिले के सबसे पुराने आईपीएस अधिकारी चौ. वीरेन्द्र सिंह, चौ. सोमवीर सिंह के सहोदर जज, भाकियू जिलाध्यक्ष चौ. उम्मेद सिंह, चौ. पीतम सिंह, संभल के जाट नेताओं में चौ. हरवीर सिंह चाहल, डा. श्याम सिंह, डा. कमलेश देवी, पीसीएस अधिकारी पारुल चौधरी, आइपीएस देवराज सिंह, पू. प्रधानाचार्य निरंजन सिंह आदि को स्मृति चिन्ह प्रदान किये गये।

इस मौके पर गजरौला जाट सभा अध्यक्ष चौ. तेजपाल सिंह, मंडी धनौरा जाट सभा के स. सतेन्द्र सिंह, पूर्व जिला पंचायत सदस्य वीरेन्द्र सिंह, रियल एस्टेट व्यवसायी चौ. सोमवीर सिंह, जिला पंचायत सदस्य पति भूपेन्द्र सिंह, डा. सोरन सिंह, वेदपाल सिंह, पूर्व गन्ना समिति चेयरमेन चौ. शिवराज सिंह, कावेन्द्र सिंह, कृपाल सिंह, बलवीर सिंह, महावीर सिंह, ने भी विचार व्यक्त किये। संचालन युवा जाट सभा के जिला अध्यक्ष विपिन चौधरी ने किया।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...