Header Ads

सड़क अतिक्रमण से जूझते लोग क्या करें : नगर पालिका और पुलिस ने आंखें बंद कर ली हैं

encroachment-in-gajraula-chopla
गजरौला में लगभग रोज जाम लगता है. चौपला से हसनपुर जाने वाली सड़क भी अतिक्रमण का शिकार है.

अल्लीपुर-चौपला अव्यवस्थित यातायात तथा अबाध अतिक्रमण के कारण लोगों के लिए बड़ी मुसीबत बन चुका है। न तो नगर पालिका प्रशासन और न ही पुलिस इस समस्या की ओर कोई ध्यान दे रही। जहां इससे आवागमन बाधित होता है वहीं सड़क दुघर्टनायें और लोगों में आपसी झगड़े भी बढ़ रहे हैं।

थाना-चौराहे से चौपला तक आने जाने में बाधा बने रेलवे फाटक पर ओवरब्रिज बनने से लोगों को राहत की उम्मीद थी लेकिन चौपला से ठीक पहले जहां एक ब्रिज समाप्त होता है, वहां सड़कों के दोनों ओर चौपला तक अवैध व वैध वाहन खड़े रहते हैं। डग्गामार वाहनों की भी भीड़ रहती है। परिवहन निगम की बसें भी बस अड्डे के बजाय चौपला पर ही यात्री उतारती और बैठाती हैं। साथ ही कई दुकानदारों ने सड़क तक सामान लगा लिया है। एक ओर सब्जी की दुकानें सड़क की जमीन पर हैं तो फलों के ठेले बाकी बची जगह पर खड़े रहते हैं। हालत यह है कि दिन में कई बार यहां जाम लग जाता है। बेकसूर लोग उसमें फंसते रहते हैं। यहां स्थित चौकी पर अच्छी तादाद में पुलिस मौजूद रहती है लेकिन उनका ध्येय कुछ और ही होता है। वे इस समस्या को नजरअंदाज किये रहते हैं तथा फंसे वाहनों के चालकों या दूसरे लोगों में कोई विवाद हो और उनसे वसूली का बहाना मिले। अकारण ही किसी भी वाहन को रोककर चलते यातायात को बाधित करने में भी कई पुलिसवालों को आनंद आता है।

चौपला से हसनपुर की ओर जाने वाली सड़क भी अतिक्रमण का शिकार है। यहां प्राइवेट बसें तथा टेम्पू, ट्रक आदि सड़क पर खड़े होकर यात्रियों और सामान को भरते और उतारते हैं। दोनों ओर दूर तक यही हाल रहता है। ठेले, खोमचे और खोखों ने सड़क पर कब्जा कर लिया है। यहां से गुजरना टेढी खीर है। पुलिस तमाशबीन है और नगर पालिका को इससे कोई सरोकार नहीं।

gajraula-gt-road

अतिक्रमण बढ़ाने का ठेका होता है यहां :
यहां खड़े होने और रुकने वाले वाहनों से नगर पालिका ठेकेदार पार्किंग शुल्क वसूलता है। उसका कहना है कि उसने पालिका से 24 लाख का ठेका लिया है। इसलिए वह वसूली करता है। जबकि यहां नगर पालिका ने कहीं भी पार्किंग स्थल नहीं बना रखा। पालिका अवैध रुप से ठेका देता है। पिछली बार भी 18 लाख का ठेका दिया गया था। यही कारण है कि नगर पालिका अतिक्रमण रोकने के बजाय उसे बढ़ावा दे रहा है। चौदह वर्षों से यहां जमा बैठा इ.ओ. इस धंधे का माहिर हो चुका। उसी ने यहां ऐसे तत्वों से सांठगांठ कर रखी है जां यहां इस तरह के धंधों में लिप्त हैं।

कई खोखा मालिक, फल और चाट-पकौड़ी का ठेला लगाने वालों का कहना है कि उनसे ठेकेदार के साथ पुलिसवाले भी वसूली करते हैं। उन्हीं की कृपा से वे सड़क के किनारे दो-जून की रोटी कमाने का धंधा कर रहे हैं नहीं तो उन्हें पुलिस सड़क पर एक मिनट भी खड़ा नहीं होने देगी।

प्रतिवर्ष एक सप्ताह के लिए अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया जाता है लेकिन इस साल वह भी नहीं चलाया गया। ऐसे में दो-चार दिन को थोड़ी सख्ती की जाती है बाद में लोग उसी ढर्रे पर आ जाते हैं।

थाना चौराहा, अल्लीपुर चौपला और स्टेशन-खादगूजर चौराहा अतिक्रमण से बुरी तरह ग्रस्त है। जहां से अतिक्रमण हटवाने की नागरिकों ने मांग की है।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...