इलाहबाद हाइकोर्ट ने तीन तलाक को असंवैधानिक बताया

teen-talak-muslim-law
हाइकोर्ट ने कहा कि कोई भी पर्सनल लॉ संविधान से ऊपर नहीं है और पवित्र कुरान में भी तलाक को सही नहीं कहा गया है.

इलाहबाद हाइकोर्ट ने तीन तलाक को गलत बताया है। दो याचिकाओं पर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने तीन तलाक को असंवैधानिक कहा। हाइकोर्ट ने साथ ही कहा कि यह मुस्लिम महिलाओं के साथ क्रूरता है। उधर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य और इस्लाम के जानकार खालिद रशीद फिरंगी महली ने कोर्ट के फैसले को शरियत के खिलाफ बताते हुए कहा कि संविधान ने हमें पर्सनल लॉ पर अमल करने की आजादी दी है। हम इस फैसले के खिलाफ कोर्ट में अपील करेंगे।

हाइकोर्ट ने कहा कि कोई भी पर्सनल लॉ संविधान से ऊपर नहीं है और पवित्र कुरान में भी तलाक को सही नहीं कहा गया है। तीन तलाक महिलाओं के संवैधानिक अधिकारों का हनन है। इस्लामिक कानून इसकी सही व्याख्या नहीं कर रहा।

हाईकोर्ट ने बुलंदशहर की हिना और उमरबी द्वारा दाखिल याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह बात कही। चौबीस साल की हिना का विवाह 53 साल के व्यक्ति से हुआ था। उसने बाद में तलाक दे दिया था। जबकि उमरबी का पति दुबई में रहता है जिसने उसे फोन पर तलाक दिया था। उसके बाद उसने अपने प्रेमी से विवाह किया।

ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि कोर्ट ने बहुत ही अच्छा फैसला दिया है। तीन तलाक पर रोक लगनी चाहिए।

-टाइम्स न्यूज़.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...