नौगांवा सीट पर नागपाल की दावेदारी मजबूत, फैसला हो चुका -घोषणा बाकी

devendra-nagpal-gajraula
भाजपा कार्यकर्ताओं में से अधिकांश चाहते हैं कि नौगांवा सादात सीट पर भाजपा पूर्व सांसद देवेन्द्र नागपाल को उम्मीदवार बनाये तो जीत सुनिश्चित होगी। उधर देवेन्द्र नागपाल के निकटस्थ सूत्रों ने दावा किया है कि उनका टिकट पक्का हो चुका जबकि इसके लिए घोषणा बाकी है। गौरतलब है यहां से उम्मीदवारी के लिए कई लोग लाइन में थे।


पिछले दिनों सपा छोड़ भाजपा में आये देवेन्द्र नागपाल की छवि हिन्दूवादी नेता के रुप में जानी जाती है। भले ही वे कुछ समय किन्हीं कारणों से सपा में रहे लेकिन सपा में उनका झुकाव भी हिन्दूवादी तबकों की ओर था। जिला पंचायत चुनाव में उन्होंने इसी कारण महबूब अली के खिलाफ चौ. चन्द्रपाल सिंह का जबर्दस्त पक्ष लिया तथा उनकी पुत्रवधु को जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाने में अहम भूमिका निभाई। जिले में सपा की एक वर्ग विशेष को अधिक तवज्जो देने के कारण उन्होंने उसे अल्प समय में ही अलविदा कह कर भाजपा का दामन थाम लिया। उन्हें पहली बार रालोद तथा भाजपा के संयुक्त उम्मीदवार के रुप में सांसद बनाने में हिन्दू मतों का ध्रुवीकरण बड़ा कारण था। इससे पूर्व जब वे निर्दलीय उम्मीदवार के रुप में विधायक बने तो सभी वर्गों का बहुमत उनके साथ था।

रेनू चौधरी को जिलाध्यक्ष बनवाने के बाद चौ. चन्द्रपाल सिंह के गांव पपसरा से सटी नौगांवा सादात सीट के बहुसंख्यक समुदाय में उनका समर्थन बढ़ा है। एक ओर सपा का अल्पसंख्यक प्रेम साथ ही मायावती का भी उधर को बढ़ता झुकाव, दो ऐसे मजबूत कारण हैं जो देवेन्द्र नागपाल की स्थिति बहुसंख्यक समुदाय में बढ़ाने में मददगार सिद्ध हो रहे हैं। इस स्थिति का आकलन भाजपा स्वयं कर रही है जबकि हाईकमान से सारी वस्तुस्थिति को बेहतर ढंग से समझाने में देवेन्द्र भी सक्षम हैं। वास्तव में इस सीट पर भाजपा में यहां देवेन्द्र नागपाल से मजबूत कोई दूसरा नेता या कार्यकर्ता नहीं है। उम्मीदवारी पर पक्की मोहर के बाद ही घोषणा होगी।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...