Header Ads

नौगावां और धनौरा सीटों से कटेगा किस-किस का पत्ता?

ikrar%2Bjagram
चारों उम्मीदवारों में बेचैनी का आलम है क्योंकि नयी सूची जल्द जारी होगी.


सपा के शीर्ष नेतृत्व में वर्चस्व की लड़ाई से जिला अमरोहा की चार में से दो सीटों पर उतारे चारों उम्मीदवारों में बेचैनी थी। अब पिता-पुत्र में समझौते हो गया है। वरिष्ठ नेता मो. आजम खां और बेनीप्रसाद वर्मा जैसे नेताओं के बीच में आने से मसला सुलझ गया।

शक्ति परीक्षण से पूर्व ही अखिलेश यादव का पलड़ा भारी होने और मुलायम सिंह यादव को अपनी कमजोरी का अहसास होने से दोनों का फिर से करीब आना संभव हुआ।

इससे मंडी धनौरा और नौगावां सीटों पर खड़े किये गये दो-दो उम्मीदवारों में से एक-एक रह जायेगा। इसपर संशय बरकरार है।

महबूब अली और कमाल अख्तर पहले ही हरी झंडी मिलने से अपनी-अपनी सीटों पर कायम रहेंगे।

election%2Bdh

नौगावां सादात सीट पर इकरार अंसारी के बजाय अशफाक खां की दावेदारी मजबूत मानी जा रही है। हो सकता है समझौते के बाद शिवपाल यादव की लिस्ट के बजाय अखिलेश की लिस्ट को मान्यता मिले। विवाद की जड़ में उम्मीदवारों का चयन मुख्य था।

मंडी धनौरा से दोनों ही नाम रद्द हो सकते हैं। इनके स्थान पर आलोक भारती सर्वमान्य नाम है।

alok-bharti

क्षेत्र के सपा नेता और कार्यकर्ताओं में से अधिकांश लोग आलोक भारती के नाम पर सहमति व्यक्त करते हैं। अब यह शीर्ष नेतृत्व पर निर्भर है कि वह पुराने दोनों नाम उर्वशी चौधरी अथवा जगराम सिंह में से किसी को पसंद करे अथवा भारती को हरी झंडी दे।

विधायक एम. चन्द्रा या उनके बेटे कपिल चन्द्रा को दोनों ही गुटों ने अमान्य करार दिया था।

-टाइम्स न्यूज अमरोहा.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...