Header Ads

धनौरा तहसील का हाल : जब देखो तब सर्वर डाउन!

old-style-computer-in-office
किसान परेशान हो रहा है. आदेश न चढ़ पाने के कारण बैंक ऋण नहीं दे पा रहा है, परंतु कर्मचारियों को इन सबसे कोई लेना-देना नहीं.

तहसील परिसर में उद्धरण खतौनी कम्प्यूटर रुम में आप जब भी पहुंचेंगे तो आपको अकसर यही जबाव मिलेगा कि नेट फेल है या सर्वर डाउन है, यद्यपि इसमें भी दो राय नहीं कि कार्यालय कर्मचारी कम्प्यूटर तकनीक फेल होने के कारण कार्य कर पाने से विवश हैं। परंतु पूर्णतः यह कहना कि पूरा कार्य कम्प्यूटर के कारण नहीं हो पा रहा, यह भी सरासर गलत है। लापरवाही की भी एक सीमा होती है।

बैंकों से ऋण उपरांत संबंधित भूमि दस्तावेजों पर ऋण धनराशि तथा भूमि बंधक का आदेश इन कार्यालयों में दर्ज किया जाता है। लेकिन कोई परवाह न रजिस्ट्रार कानूनगो को है, और न उस कार्यालय के कर्मचारियों को। जबकि इस कार्य को करने के लिए वे स्पेशल रुपये लेते हैं, तब आदेश चढ़ाया जाता है जोकि बैंक प्रबंधन के लिए एक महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है। उसके बाद भी काम होना सरल नहीं है।

चार-पांच माह के दस्तावेज पैसे लेने के उपरांत भी पैंडिंग पड़े आपको कार्यालय में आज भी नजर आ सकते हैं।

किसान परेशान हो रहा है। आदेश न चढ़ पाने के कारण बैंक ऋण नहीं दे पा रहा है, परंतु कर्मचारियों को इन सबसे कोई लेना-देना नहीं।

-टाइम्स न्यूज़ मंडी धनौरा / आशीष पाठक.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...