Header Ads

भीड़ जुटाकर सोरन ने कराया ताकत का अहसास, विरोधियों में हड़कंप

soran%2Bsingh%2Brajabpur
कहा भी कि उनकी आवाज बहनजी तक नहीं पहुंचने दी जा रही जबकि उनके साथ जनसमर्थन है.


अपने दम पर किसान मजदूर भाईचारा सम्मेलन में भारी भीड़ जुटाकर डा. सोरन सिंह ने सभी नेताओं को यह संदेश दे दिया कि क्षेत्र की जनता उनके साथ है। नेहरु स्मारक इंटर कालेज में इस वर्ष कई सभायें और आयोजन हुए लेकिन इतनी बड़ी संख्या में भीड़ किसी भी आयोजन में नहीं जुट पायी।

उल्लेखनीय है कि डा. सोरन सिंह बसपा के लिए काम कर रहे हैं। उनका इरादा नौगांवा सीट से चुनाव लड़ने का था। वे अपना इरादा बसपा नेताओं को स्पष्ट भी कर चुके थे। परंतु लगता है उनकी आवाज ठीक तरह से मायावती तक नहीं पहुंच पायी। जैसाकि उन्होंने सम्मेलन में कहा भी कि उनकी आवाज बहनजी तक नहीं पहुंचने दी जा रही जबकि उनके साथ जनसमर्थन है।

shoorveer%2Bsingh%2Bsoran%2Brailly

पिछले दिनों जिले की चारों सीटों के साथ ही नौगांवा से भी उम्मीदवार मैदान में उतार दिया गया। बात नहीं बनने के कारण ही डा. सोरन सिंह ने शक्ति प्रदर्शन के लिए सम्मेलन का मार्ग चुना। उनके आहवान पर उन्हें सुनने को उमड़ी भारी भीड़ से जहां सोरन सिंह गदगद हैं, वहीं उनके विरोधी और बसपा नेता असमंजस में हैं।

डा. सोरन सिंह ने जनसमूह के सामने मंच से जब कहा कि कोई टिकट दे या न दे जनता ने उन्हें टिकट दे दिया है, तो इसका मतलब स्पष्ट हो जाता है कि अब बसपा से टिकट मिले या न मिले डा. सोरन सिंह चुनाव जरुर लड़ेंगे। उन्होंने यह कहा भी है कि बसपा उम्मीदवार न भी बनाये उनपर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला, जनता ने उनके एक इशारे पर उनके साथ खड़ा होकर उनके चुनाव लड़ने को हरी झंडी दे दी है।

soran%2Bsingh%2Bsabha

उल्लेखनीय है कि महीनों भागदौड़ कर भाजपा, बसपा, सपा और रालोद के क्षेत्रीय दिग्गज अपने दलों के बड़े नेताओं के आगमन पर भी इतनी भीड़ नहीं जुटा पाये जितनी भीड़ डा. सोरन सिंह अकेले ही अपने दम पर इकट्ठा करने में सफल रहे। अब यह फाइनल हो चुका है कि डा. सोरन सिंह नौगांवा से चुनाव जरुर लड़ेंगे, यह समय बतायेगा कि उनके डंडे में कौनसा झंडा होगा?

-टाइम्स न्यूज़ रजबपुर.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...