Header Ads

जाट आरक्षण आंदोलन : क्या हैं जाटों की मुख्य मांगें और कहां-कहां जारी है धरना

जाट-आरक्षण-रिजर्वेशन-आंदोलन
रोहतक के गांव जसिया गांव को आरक्षण आंदोलन का प्रमुख स्थल बनाया गया है.


हरियाणा में जाट आंदोलन शुरु हो चुका है। रविवार से राज्य के 19 जिलों में जाट समुदाय के लोग आंदोलन कर रहे हैं। सरकार ने सख्ती दिखाते हुए कोताही बरतने के आरोप में पांच पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया है। वे फतेहाबाद में फ्लैग मार्च में गैरहाजिर हुए थे। खबरों के अनुसार कई जगह इन्टरनेट के सेवाएं भी बाधित की गयी हैं।

हरियाणा में रोहतक के गांव जसिया गांव को आरक्षण आंदोलन का प्रमुख स्थल बनाया गया है। उधर रोहतक के सेक्टर 9 में जाट जागृति सेना का धरना पहले से जारी है। उनके धरने को रविवार तक तीन दिन हो गये हैं।

भिवनी में भी धरना शुरु हुआ है। यहां कई एकड़ भूमि को धरना स्थल के लिए समतल किया गया ताकि लोगों को बैठने में दिक्कत न आये। यहां आयोजकों का कहना है कि लोग शामिल होने के लिए जुट रहे हैं। यहां 50 हजार से अधिक लोगों का इंतजाम किया गया है।

कुछ जगह तो महिलाएं अपने बच्चों के साथ भी धरना स्थल पर हैं।

टेंटों के साथ-साथ भोजन आदि की भी उचित व्यवस्था की जा रही है। जाट आरक्षण आंदोलन में शामिल लोगों का कहना है कि उनके पास सभी व्यवस्थायें हैं। अपनी जायज मांगों के लिए वे पीछे नहीं हटने वाले।

जाटों की मुख्य मांगें :
1. केन्द्र और हरियाणा प्रदेश में जाटों को आरक्षण मिले.
2. पिछले साल हुए जाट आरक्षण आंदोलन में जाट युवकों पर दर्ज मुकदमे वापस हों तथा उनकी रिहाई की जाये.
3. आंदोलन के दौरान मारे गये परिजनों और घायलों को मुआवजा दिया जाये. मृत लोगों के परिजनों को नौकरी दी जाये.
4. दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की जाये.
5. सांसद राजकुमार सैनी के खिलाफ कार्रवाई की जाये. उनपर आरोप है कि उन्होंने भड़काने वाले बयान दिये थे.
जिन जिलों में धरना चल रहा है वे हैं :
झज्जर, हिसार, जींद, करनाल, अंबाला, कैथल, कुरुक्षेत्र, पानीपत, भिवनी, यमुनानगर, रोहतक, रेवाड़ी, पलवल, दादरी, फतेहाबाद, फरीदाबाद, महेन्द्रगढ़, सोनीपत और सिरसा.

जरुर पढ़ें : जेलों में बंद नवयुवकों की रिहाई बड़ा मुद्दा


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...