Header Ads

नारायण जन कल्याण वेलफेयर सोसायटी ने टीबी के प्रति जागरुक किया

नारायण-जन-कल्याण-वेलफेयर-सोसायटी
डा. उत्तम सिंह यह प्रयास कर रहे हैं कि बीमारी को समूल नष्ट करायें ताकि नये मरीज न हों.


एक टीबी मरीज यदि इलाज न कराये तो वह एक वर्ष में अपने संपर्क में आने वाले 15 नये मरीज और तैयार कर लेता है। इसी से समझ लेना चाहिए कि इस महामारी का इलाज कितना जरुरी है। ये विचार नारायण जन कल्याण वेलफेयर सोसायटी के सचिव डा. उत्तर सिंह प्रजापति ने अक्षय परियोजना के तहत चलाये अभियान के दौरान गांव हथियाखेड़ा के लोगों के बीच व्यक्त किये।

डा. उत्तम सिंह ने टीबी के लक्ष्णों की जानकारी के बारे में लोगों को बताया कि दो सप्ताह से अधिक खांसी रहना, गाढे पीले बलगम का आना। इलाज के बावजूद शाम के समय तेज बुखार रहना, वजन घटना, भूख कम लगना, जैसे लक्ष्ण टीबी रोग के हैं।

डा.-उत्तम-सिंह

डा. उत्तम सिंह ने बताया कि यह बीमारी संक्रमण से फैलती है। रोगी के खांसने और छींकने मात्र से संपर्क में आने वाले को यह बीमारी बड़ी आसानी से जकड़ लेती है। उन्होंने मौजूद लोगों को सलाह दी। उपरोक्त लक्ष्णों के दिखाई देने पर पास के सरकारी अस्पताल में बलगम आदि की जांच करायें और वहां ठीक होने तक नियमित इलाज जारी रखें। यह इलाज निशुल्क होता है। डा. सिंह ने अपना मोबाइल फोन नंबर देते हुए कहा कि वे जरुरत पर उनकी भी निशुल्क सेवा ले सकते हैं। वे हमेशा तत्पर रहते हैं। उन्होंने यह भी सलाह दी कि रोग का पूरा कोर्स करें। बीच में छोड़ने पर यह बीमारी भयंकर रुप ले लेती है। वे यह प्रयास कर रहे हैं कि बीमारी को समूल नष्ट करायें ताकि नये मरीज न हों। उनकी संस्था इसके लिए प्रयास में संलग्न है।

इस अवसर पर संस्था की ओर से डीसी रामकिशोर, गंगादास सिंह, अनिल कुमार, मुकेश कुमार, पवन कुमार, विक्रम सिंह, मीना देवी, दीप्ति यादव, बुधिया देवी, बबीता, हीरा देवी, कलावती, सुनीता आदि मौजूद थे।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...