Header Ads

यूपी चुनाव 2017 : सपा का रगड़ा और दिलचस्प होती राजनीति का रोमांच

akhilesh%2Bmulayam
समाजवादी पार्टी में असली 'दंगल' की शुरुआत अब हुई है जिसके कारण सपा में हलचल तेज़ है.


यूपी में समाजवादी पार्टी का रगड़ा बढ़ता जा रहा है। आपसी खींचतान के कारण समर्थकों में असमंजस का माहौल है। वे यह नहीं समझ पा रहे कि आगे क्या नया मोड़ आयेगा?

वैसे यह कोई भी समझ नहीं पा रहा कि समाजवादियों की इस लड़ाई में आगे क्या मोड़ आने वाला है। मौजूदा परिदृश्य को देखकर यह साफ कहा जा सकता है कि आगे कुछ भी साफ नहीं है। ऐसा कुछ नहीं लग रहा जो स्पष्ट तौर पर कहा जा सके। परिवार की यह लड़ाई सपाईयों के हंगामे ने रविवार को सड़क पर लाकर रख दी थी जब उन्होंने जमकर हंगामा किया। यहां तक की शिवपाल यादव की नेम प्लेट उखाड़ कर उनके कार्यालय पर कब्जा तक कर लिया गया था।

mulayam%2Bsingh%2Byadav%2Bsp
मुलायम सिंह यादव आज राजनीति में ऐसे मोड़ पर खड़े हुए हैं जहां रास्ते अजीब हालात पैदा कर रहे हैं. उनकी पार्टी में ही वे हाशिये की ओर बढ़ रहे हैं. राजनीति के 'पहलवान' के लिए ये किसी 'फटके' से कम नहीं कहा जा सकता.

समाजवादी पार्टी में असली 'दंगल' तो अब शुरू हुआ है....

मुलायम सिंह यादव असहाय की तरह हो गये हैं। उन्हें समझ नहीं आ रहा कि पार्टी की जंग कहां तक पहुंच सकती है। हालांकि वे यह जानते हैं कि वे अपने कदम पीछे खींचेंगे तो स्थिति उनके मुताबिक खराब हो जायेगी। जबकि असल में स्थिति तो खराब हो चुकी लगती है। पार्टी में बिखंडा तो पड़ चुका था। अब तो उसके बाद का दौर चल रहा है। यह दौर बहुत तेजी से चल रहा है जिसमें हर दिन कई घटनाक्रम ऐसे हो रहे हैं जो राजनीति में कम दिलचस्पी लेने वालों को राजनीति में दिलचस्पी लेने पर मजबूर कर रहे हैं। कई को तो यह क्रिकेट मैच से भी अधिक रोचक लग रहा है।

साईकिल चुनाव चिन्ह को लेकर मुलायम सिंह यादव सोमवार चुनाव आयोग पहुंचे थे। उस समय उनके साथ अमर सिंह और जयाप्रदा भी मौजूद रहे। बाद में अखिलेश गुट ने भी अपना दावा करने के लिए चुनाव आयोग से समय मांगा है। मंगलवार को सुबह साढ़े ग्यारह बजे का समय चुनाव आयोग ने उन्हें दिया है।

अब कई चीजें मजेदार होंगी जिनसे यूपी की सियासत में रोमांच पैदा हो सकता है। पहला यह कि साईकिल चुनाव चिन्ह किसे मिलेगा? दूसरा यह कि चुनाव चिन्ह क्या दोनों से छिनेगा? तीसरा, देखने वाली होगी कि यूपी की सियासत अब किस मोड़ पर जायेगी?

-टाइम्स न्यूज स्टाफ.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...