Header Ads

दावेदारों का गणित बिगाड़ेगा रालोद

अजीत-सिंह-रालोद
11 मार्च में पता चल जायेगा कि अजीत सिंह की रालोद से किसे लाभ और किसे हानि हुई.


उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के नतीजे इस बार बहुत ही चौंकाने वाले होंगे। बड़े-बड़े राजनैतिक पंडित अभी से कहने लगे हैं कि कोई भी दल अकेले सरकार बनाने लायक सीटें लाने में सफल नहीं होगा। कई लोग तो यहां तक दावा कर रहे हैं कि बड़ा दल या गठबंधन मुश्किल से डेढ़ सौ तक पहुंच पायेगा। यह भी माना जा रहा है कि सभी दलों द्वारा अछूत मान लिये राष्ट्रीय लोकदल का मतदान प्रतिशत पिछले चुनाव से भारी बढत लेगा। सीटें भी बढ़ेंगी। इसी से कई जगह समीकरणों में व्यापक उलटफेर होगा। इसका मतलब यह नहीं कि रालोद कोई बड़ा भारी बहुमत हासिल कर लेगा बल्कि उसके उम्मीदवारों की वजह से कई जगह जीतने वाले हारेंगे और हारने वाले जीत भी सकते हैं। यह 11 मार्च की मतगणना में पता चल जायेगा कि रालोद से किसे लाभ और किसे हानि हुई।

रालोद गठबंधन होने पर 25 सीटों पर सीमित चुनाव क्षेत्र तक सिमट जाता जबकि अकेला मैदान में आने पर उसके 235 उम्मीदवार मैदान में हैं। ये सभी ऐसे उम्मीदवार हैं जो स्वेच्छा से विजय की उम्मीद में रालोद का टिकट लेकर मैदान में उतरे हैं। हार-जीत राजनीति का खेल है। ऐसे में जीत की दावेदारी सभी की होती है जबकि विजेता सब नहीं हो सकते। परिणाम कुछ भी हो लेकिन रालोद के 70-75 उम्मीदवार बहुत ही दमदार हैं तथा इनमें से ज्यादातर उम्मीदवारों की हालत जातीय गणित पर भी काफी मजबूत बतायी जाती है। शेष उम्मीदवारों को यदि हम विफल भी मान लें, जोकि अभी मानना सैद्धांतिक रुप से दोषपूर्ण होगा, फिर भी दूसरे दलों का गणित बिगाड़ने को यही बहुत है।

जरुर पढ़ें :  गोद लिया बेटा और प्रियंका पर अमित शाह की चुप्पी, अब प्रवक्ता की तलाश है

भाजपा वाले, सपा-कांग्रेस गठबंधन तथा बसपा, सभी अपना स्पष्ट बहुमत मानकर चुनाव लड़ रहे हैं। यह सभी जानते हैं कि स्पष्ट बहुमत या बहुमत तो किसी एक दल का ही आयेगा। किसका आयेगा या सरकार बनाने लायक किसी का भी नहीं आयेगा। कुछ भी हो सकता है। जिसके बारे में स्पष्ट कोई भी नहीं बता सकता है। जब कुछ भी स्पष्ट नहीं है और सभी दल अपनी-अपनी बढ़त मानकर चल रहे हैं तो ऐसे में रालोद भी यह दावा करे कि वह सबसे बड़ा दल बनकर उभरेगा अथवा उसके बिना इस बार सरकार नहीं बन पायेगी, तो इसपर भी उतना ही यकीन करना होगा जितना भाजपा, सपा-कांग्रेस या बसपा के दावों पर।

-जी.एस. चाहल.

यूपी चुनाव में इस बार रालोद देगा सबसे बड़ा सरप्राइज! गजरौला टाइम्स के यूट्यूब चैनल पर देखें ये विडियो..


अमरोहा-विधानसभा-सीटों-का-हाल
जरुर पढ़ें : अमरोहा जिले की चारों सीटों पर सपा-बसपा और भाजपा में कड़ी टक्कर.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...