Header Ads

क्षेत्र के वयोवृद्ध चिकित्सक डा. विद्याभूषण पंचतत्व में विलीन

डा. विद्याभूषण शर्मा अंतिम सांस तक मरीजों की चिकित्सा में संलग्न रहे.

आजीवन चिकित्सा और शिक्षा जैसी सेवायें प्रदान करने वाले डा. विद्याभूषण शर्मा इस असार संसार से हमेशा के लिए विदा हो गये। वे नब्बे वर्ष से अधिक आयु के थे। उनके निधन से नगर में शोक का वातावरण है। वे अपने परिवार में सबसे बड़े थे। उनके दो भाई तथा भरा पूरा परिवार आपसी प्रेम और सद्भाव के साथ यहीं रहता है। उनके बड़े बेटे डा. सुदेश भूषण शर्मा गाजियाबाद में सरकारी अस्पताल में चिकित्साधिकारी हैं तथा छोटे बेटे डा. आशुतोष भूषण शर्मा का चौपला पर निजि क्लीनिक है।

डा. विद्याभूषण शर्मा

डा. विद्याभूषण शर्मा अंतिम सांस तक मरीजों की चिकित्सा में संलग्न रहे। हाल ही में उनकी अचानक तबीयत खराब होने से उन्हें मेरठ ले जाया गया था। जहां हृदय गति रुकने से उनका निधन हो गया। उनके पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए तिगरी गंगा तट पर ले जाया गया। डा. विद्याभूषण पंचतत्व में विलीन हो गए हैं।

उनके स्व. पिता शिवकिशोर शर्मा द्वारा स्थापित शिव इंटर कालेज के वे प्रबंधक भी थे। वे शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए हमेशा याद किये जायेंगे। खादी के क्षेत्र में काम करने वाली गांधीवादी संस्था श्रमगढी के वे अध्यक्ष रहे।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...