Header Ads

'योग और यज्ञ सुखमय जीवन का आधार'

भीष्म आर्य ने प्राचीन भारतीयों के आहार पर भी प्रकाश डाला.

भारत स्वाभिमान ट्रस्ट और पतंजलि योग समिति द्वारा चलाये जा रहे योग प्रशिक्षण कार्यक्रमों की श्रंखला में जिला प्रभारी भीष्म आर्य ने कहा कि सफल, सुखी और निरोगी जीवन के लिए योग और यज्ञ को अपनायें। भीष्म इस कार्यक्रम की ग्यारहवीं कड़ी में नगर के मोहल्ला शिवपुरी में रामचन्द्र अग्रवाल के निवास पर संपन्न योग और यज्ञ के दौरान मौजूद लोगों को संबोधित कर रहे थे।

योग और यज्ञ सुखमय जीवन का आधार

कार्यक्रम के दौरान भीष्म आर्य ने लोगों को स्मरण कराया कि हमारे पूर्वज भोरकाल में जल्दी जागते थे, वे स्वस्थ रहने के लिए पैदल चलना, कुश्ती लड़ना, दौड़ना, कबड्डी, तथा दंड-बैठक लगाना नियमित क्रियाओं में शामिल करते थे। स्नान तथा ध्यान उनकी दिनचर्या के अनिवार्य और प्राथमिक अंग थे।

उन्होंने बताया कि तीर्थ यात्रायें तथा देशाटन भी समय-समय पर किये जाते थे। इससे ज्ञान, अनुभव और बलवृद्धि के साथ आपसी प्रेम और सौहार्द को भी बढ़ावा मिलता था। भीष्म आर्य ने प्राचीन भारतीयों के आहार पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सभी अन्नों को मिलाकर खाना तथा मौसमी फलों का सेवन करना स्वास्थ्य और सद्बुद्धि दोनों के लिए उपयोगी था। यही कारण था कि हमारे पूर्वज तनाव, निराशा और क्रोध आदि से सदैव मुक्त तथा शांत चित्त और प्रसन्न रहते थे।

योग तथा यज्ञ सुखमय जीवन का आधार

उन्होंने मौजूद भद्रजनों से अपेक्षा की कि वे योग और यज्ञ के साथ अपने आहार और जीवन पद्धति में अपने पूर्वजों का अनुसरण करेंगे। सभी से घरों में औषधीय पौधे लगाने तथा प्रतिदिन योग आदि करने, इसी के साथ दूसरों को भी प्रेरित करने का आग्रह किया।

इस अवसर पर रामचन्द्र अग्रवाल, नितेश अग्रवाल, प्रेमशंकर, गंगादेवी, शशिबाला, प्रियंका, कृष्णा, अमित सिंह आदि मौजूद थे।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...