Header Ads

गंगा आरती पर कब्जे के लिए दो गुटों में झड़प

पुलिस ने पुराने गुट को बाहर खदेड़ा, मौजूदा कमेटी के प्रमुख हैं अशोक नागर.

गंगा आरती प्रबंधन पर कब्जे का विवाद फिर गहराना शुरु हो गया है। इस सिलसिले में पुराने गुट ने आरती के दौरान जबरन कब्जा करने की कोशिश की लेकिन श्रद्धालुओं और स्थानीय साधुओं द्वारा मौके पर पहुंच कर पुराने गुट का प्रयास सफल नहीं होने दिया। इस दौरान आरती स्थल पर हुए विवाद की भनक पर पुलिस पहुंच गयी तथा मौजूदा गुट का साथ देते हुए पुराने गुट को खदेड़ दिया। इस दौरान विधायक कमल सिंह मलिक भी मौजूद थे। इस समय गंगा सभा कमेटी आरती का प्रबंधन संभाले हुए है। इसके अध्यक्ष अशोक नागर हैं। पुरानी कमेटी के अध्यक्ष पं. देवदत्त शर्मा अवैध रुप से यहां कब्जा करना चाहते हैं।

गंगा आरती पर कब्जे के लिए दो गुटों में झड़प

उल्लेखनीय है कि यहां गंगा तट पर हरिद्वार की तर्ज पर घंटाघर बनाकर गंगा तट का सौन्दर्यीयकरण किया गया था। ऐसे में 30 अप्रैल 2001 में मेरठ मंडलायुक्त दीपक सिंघल और डीएम इंद्रजीत वर्मा ने यहां गंगा आरती शुरु करायी थी। इसका उद्घाटन तत्कालीन मंत्री कलराज मिश्र और भानपुरा पीठ के शंकराचार्य स्वामी दिव्यानंद तीर्थ ने किया था।

30 अप्रैल 2001 में पं. देवदत्त शर्मा की अध्यक्षता में गंगा आरती समिति बनाकर आरती का काम सौंप दिया गया। लगातार 7 वर्षों तक रही इस कमेटी ने आय-व्यय का कोई हिसाब नहीं दिया जबकि आरती के दौरान श्रद्धालुओं द्वारा भारी मात्रा में दान दिया जाता था। यह कमेटी भंग कर डीएम ने पालिका बोर्ड के हाथों में आरती सौंप दी। इसके बाद व्यापार मंडल के हाथ में भी आरती की बागडोर रही।

17 अप्रैल 2015 में अशोक नागर की अध्यक्षता में एक पंजीकृत संस्था गंगा सभा ने दो साल में 34 लाख की आय का ब्यौरा दिया। जिसने घाटों का सौन्दर्यीयकरण और कई सुविधायें मुहैया करायीं।

गुरुवार को पं. देवदत्त शर्मा के गुट ने आरती के दौरान एकत्र होकर आरती पर जबरन कब्जा करने को हो-हल्ला शुरु कर दिया। इससे वहां अफराफरी मच गयी। दोनों गुटों में हाथापाई भी हुई लेकिन मौके पर पुलिस ने पहुंच कर मामला शांत किया। साथ ही झगड़ा करने वालों को सख्त चेतावनी देकर वहां से खदेड़ दिया। साथ ही मौजूदा कमेटी को कार्य करते रहने को हरी झंडी भी दे दी।

-ब्रजघाट से नरेश शर्मा.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...