Header Ads

मांस की दुकानों के खिलाफ रोष है लोगों में

लोग चाहते हैं कि मंदिर की ओर जाने वाली सड़क पर मांस की एक भी दुकान नहीं होनी चाहिए.

रेलवे फाटक के पास ओवर ब्रिज के नीचे स्थित मांस की दुकानों के खिलाफ अतरपुरा मोहल्ले के लोगों द्वारा विरोध करने से पालिका प्रशासन थोड़ा सक्रिय हुआ है। यहां चौमुंडा मंदिर के पास लगने वाले मछली बाजार को हटा दिया गया है। अब यहां कोई भी मछली बेचता नजर नहीं आ रहा। मांस की केवल एक ही दुकान बंद हुई है जबकि कई दुकानें अभी भी जारी हैं। इतना जरुर हुआ है कि काले शीशे के पर्दे में वहां मांस बेचा जा रहा है।

मांस की दुकानों के खिलाफ रोष
जरुर पढ़ें : कुत्ते, कव्वों और गंदगी से परेशान अतरपुरा वासी 

अतरपुरा के लोगों का कहना है कि ये दुकानें फाटक पार या दूसरे किसी स्थान पर जानी चाहिए। शीशे का प्रयोग करने के बाद भी गंदगी फैलायी जा रही है। इससे चौमुंडा मंदिर को आने-जाने वाले लोगों को दिक्कत है। अधिकारियों ने फीते से मंदिर और मीट की दुकानों की दूरी भी मापी थी। परंतु उसके बाद कुछ नहीं किया गया। लोग चाहते हैं कि मंदिर की ओर जाने वाली सड़क पर मांस की एक भी दुकान नहीं होनी चाहिए।

लोगों का कहना है कि पालिका प्रशासन यहां कई नयी दुकानें शुरु कराने को लाइसेंस देना चाहता है। यदि ऐसा किया गया तो लोग सड़कों पर उतरेंगे। इस गंदे काम को लाइसेंस देकर वैध किये जाने की प्रक्रिया का मुखर विरोध होगा। जिसका दायित्व पालिका बोर्ड का होगा।

विरोध करने वालों में जगदीश, महेश अग्रवाल, डा. बुद्धि सिंह, डा. वीरेन्द्र कुमार, योगेन्द्र कुमार, पूर्व सभासद हरीशचन्द्र, वीरेन्द्र सिंह आदि लोग शामिल हैं।

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...