Header Ads

जुर्माना ठोक दोषमुक्त कर दीं प्रदूषण वाहक फैक्ट्रियां

मामूली अर्थदंड के साथ एनजीटी द्वारा मानक पूरे करने के आदेश के बाद प्रतिबंध हटा लिया गया.

एनजीटी द्वारा जिन 13 औद्योगिक इकाईयों को प्रदूषण वाहक मानकर प्रतिबंध लगाया गया था, उन सभी को मामूली जुर्माने अथवा अर्थदंड के साथ एनजीटी द्वारा प्रदूषण रोधी मानक पूरे करने के आदेश के बाद प्रतिबंध हटा लिया गया है। सभी इकाईयां चालू हो गयी हैं तथा सभी ने निर्धारित समय सीमा में आवश्यक शर्तें पूरी करने का वचन दिया है।

जुर्माना ठोका दोषमुक्त कर दीं प्रदूषण वाहक फैक्ट्रियां
जरुर पढ़ें : उद्योगों से लिया धन बगद के उद्धार पर खर्च होगा

जुबिलेंट की पांच इकाईयों पर कुल पचास लाख, टेवा पर पन्द्रह लाख तथा शेष इकाईयों पर प्रति इकाई दस-दस लाख रुपये अर्थदंड लगाया गया है।

साथ में पढ़ें : क्षेत्र के लिए ‘डायन’ बनती जा रही है बूढ़ी फैक्ट्री

यह तो एनजीटी के अधिकारी जानते होंगे कि इस वसूली से यहां के जल, वायु और वनस्पति पर प्रदूषण का कुप्रभाव पड़ेगा या नहीं अथवा छोईया, बगद और मतवाली का जल प्रदूषित होगा या नहीं लेकिन विलुप्तप्रायः दोनों नदियों के काफी क्षेत्र पर अवैध कब्जे हैं। साथ ही जो जल इनमें बचा है उससे उनके निकटवर्ती गांवों का भूजल प्रदूषित ही रहेगा।

सम्बंधित ख़बरें -

गजरौला में प्रदूषण नहीं, युवाओं को रोजगार चाहिए

सियासी ताकतें और प्रशासन युवाओं के खिलाफ, उद्योगपतियों का साथ देते हैं

'हम आखिरी दम तक प्रदूषण के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखेंगे'

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...