परिजन उनके पास गये तो मुख्य गेट तथा ऊपर कैलाश के कमरे तक सभी द्वार खुले पाये गये.

हत्या से पूर्व शाम को कई लोग कैलाश चन्द के साथ थे। वे तिगरिया में लोगों ने उनके साथ घूमते हुए देखे थे। हो सकता है इन्हीं में से किसी ने इस घटना को अंजाम दिया हो।

कैलाश चन्द हत्याकांड

सुबह जब चौकीदार, दो अन्य लोग तथा कैलाश के बड़े भाई अमर सिंह उनके पास गये तो मुख्य गेट तथा ऊपर कैलाश के कमरे तक सभी द्वार खुले पाये गये। हत्यारा या हत्यारे जाते समय फाटक बंद किये बिना ही निकल गये। ऊपर से नीचे तक खून के जो छींटों के निशान पाये गये हैं वे हत्यारे या हत्यारों से लगे प्रतीत होते हैं।

कैलाश चन्द हत्याकांड से जुड़ी ख़बरें :

-टाइम्स न्यूज़ गजरौला.


Gajraula Times  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...